लखनऊ, जागरणा संवाददाता। लखनऊ विश्वविद्यालय के सेल्फ फाइनेंस पाठ्यक्रमों में होने वाली समूह ग की भर्ती विधान सभा चुनाव के बाद होगी। आचार संहिता की वजह से प्रक्रिया रोक दी गई है। अब इसके समाप्त के बाद लिखित परीक्षा के माध्यम से भर्ती की प्रक्रिया शुरू की जाएगी।

लखनऊ विश्वविद्यालय ने नवीन परिसर में अभियांत्रिकी एवं तकनीकी संकाय और इंस्टीट्यूट ऑफ फार्मास्यूटिकल साइंसेज संचालित स्ववित्तपोषित पाठ्यक्रमों में समूह ग के पदों पर भर्ती के लिए आवेदन लिए हैं। इसमें प्रयोगशाला अनुदेशक, कार्यालय अधीक्षक, सहायक कार्यशाला अधीक्षक, फोरमैन, कार्यालय सहायक, लेखा लिपिक, स्टोर कीपर सहित 36 पदों पर एक अक्टूबर से एक नवंबर तक आनलाइन आवेदन मांगे थे। विश्वविद्यालय प्रशासन के मुताबिक 36 पदों के सापेक्ष 400 लोगों ने आवेदन किया है। भर्ती प्रक्रिया निर्धारित करने के लिए कुलपति प्रो. आलोक कुमार राय ने बीते दिसंबर में तीन सदस्यीय कमेटी बनाई थी। योजना थी कि कमेटी की रिपोर्ट आने के बाद प्रक्रिया शुरू कर दी जाए। लेकिन अब विधानसभा चुनाव की आचार संहिता लगने की वजह से प्रक्रिया रोक दी गई है।

लिखित परीक्षा से बनेगी मेरिट : प्रो. मनुका खन्ना, एमबीए विभाग के हेड संजय मेधावी व डिप्टी रजिस्ट्रार की कमेटी ने कुलसचिव को अपनी रिपोर्ट सौंप दी है। जिसमें कहा गया है कि भर्ती लिखित परीक्षा के माध्यम से की जाए। लिखित परीक्षा की मेरिट के आधार पर मेरिट बनाई जाएगी। गौरतलब है कि राज्य सरकार की ओर से 31 जुलाई 2017 को जारी शासनादेश में स्पष्ट लिखा है कि साक्षात्कार की प्रक्रिया समाप्त कर दी गई है। लिखित परीक्षा से ही भर्ती होगी। इसलिए कमेटी ने अपनी रिपोर्ट में लिखित परीक्षा की सिफारिश की है।

'विश्वविद्यालय में समूह ग के पदों पर संविदा के आधार पर कर्मचारियों की भर्ती प्रक्रिया आचार संहिता के बाद शुरू होगी।'   -डा. विनोद कुमार सिंह, कुलसचिव, लखनऊ विश्वविद्यालय

Edited By: Anurag Gupta