गोंडा, जेएनएन। मंगलवार को गोंडा रेलवे स्टेशन से थोड़ी ही दूरी पर यशवंतपुर- गोरखपुर राप्तीसागर एक्सप्रेस आग का गोला बनने से बच गई।  गोरखपुर राप्तीसागर एक्सप्रेस के एसी कोच का पहिया अचानक ही जाम हो गया था। जिसकी वजह से इसमें से धुआं निकलने लगा। धुंआ निकलते देख आनन फानन में यात्री चेनपुलिंग कर ट्रेन से उतर कर भागने लगे। गार्ड और ड्राइवर ने अग्निशमन यंत्र से शार्ट सर्किट पर काबू पाया।  लगभग आधे घंटे बाद ट्रेन मनकापुर के लिए रवाना हुई।  

बता दें कि यशवंतपुर- गोरखपुर राप्तीसागर एक्सप्रेस गोंडा स्टेशन पर रुकने के बाद दोपहर तीन बजे के आसपास गोरखपुर के लिए रवाना हुई थी। ट्रेन अभी मोतीगंज-झिलाही के बीच पहुंची ही थी कि इसे एसी कोच के एक्सल से धुआं उठने लगा। धीरे धीरे धुआं तेजी से उठने लगा। इसे देखकर ट्रेन में बैठे यात्रियों में अफरातफरी मच गई। यात्रियों ने चेन पुलिंग कर ट्रेन को रोका और उतरकर भागने लगे। धुंआ उठने की जानकारी गार्ड और लोकोपायलट को हुई। दोनों ने अग्निशमन यंत्र से शार्ट सर्किट पर काबू पाया। इस दौरान ट्रेन आधे घंटे तक रूकी रही आगे के लिए रवाना की गई। जानकारी के मुताबिक कोई जनहानि नहीं हुई। मनकापुर स्टेशन अधीक्षक प्रभाकर पांडेय ने बताया कि पहिया ब्लॉक होने के कारण पटरियों से धुंआ निकलने लगा था आग लगने से पहले कर्मचारियों ने इसे बुझा लिया। हालांकि इस दौरान यात्रियों को काफी परेशानी हुई, जानकारी रेलवे कंट्रोल को दी गई| रेलवे अफसरों ने भी पहुंचकर स्थिति की जानकारी ली।

पूर्वोत्तर रेलवे के जनसंपर्क अधिकारी महेश गुप्त ने बताया कि ब्रेक जाम हुआ था, इससे धुआं निकलने लगा था, जिसे बुझा दिया गया| इसमें 25 मिनट का वक्त लगा, अन्य गाड़ियों के संचालन पर कोई असर नहीं पड़ा है।