गोरखपुर (जेएनएन)। दुर्गा प्रतिमा विसर्जन के दौरान गोरखपुर-बस्ती मंडल में पांच लोगों की डूबकर मौत हो गई। इसमें दो गोरखपुर, दो कुशीनगर और एक देवरिया जनपद के हैं। गोरखपुर शहर के गोपलापुर मोहल्ले के लोग बुधवार को दुर्गा प्रतिमा का विसर्जन करने के लिए राप्ती तट पर बने कृत्रिम पोखरे पर ले गए थे। विसर्जन के बाद सुदर्शन का बेटा 10 वर्षीय भीम, उसका भाई 12 वर्षीय धनंजय और सुदर्शन के भाई अवधेश का बेटा 17 वर्षीय दीपू नदी में नहाने चले गए। उस दौरान वे गहरे पानी में चले गए। वह तीनो तेज धार में बहने लगे। शोर सुनकर लोग बचाने गए। इसमें भीम को तो उन्होंने बाहर निकाल लिया लेकिन दीपू और धनंजय नदी की तेज धार में बह गए। दोनो की लाश बरामद नहीं हो पाई।

यूपी में विसर्जन यात्राओं व ताजिया जुलूस हादसों में 18 की मौत
उधर कुशीनगर जनपद के पडरौना कोतवाली थाना क्षेत्र के नोनिया पट््टी गांव के लोग मंगलवार की शाम खिरकिया से सटे झरही नदी में गाजे-बाजे के बीच प्रतिमा का विसर्जन कार्य संपन्न के बाद रात आठ बजे नदी में नहा रहे थे। गांव के ही 30 वर्षीय संजय चौहान और ननिहाल में रह रहे रामकोला थाने के चंदरपुर गांव निवासी 22 वर्षीय गोङ्क्षवद गुप्त अचानक गहरे पानी में चले गए और डूबने लगे। दोनों को डूबते देख साथ रहे युवकों ने बचाने की कोशिश की लेकिन सफलता नहीं मिली।

मूर्ति विसर्जन व मुहर्रम पर पूरब से पश्चिम तक जमकर बवाल

वहां मौजूद पुलिस ने गोताखोर की मदद से युवकों की तलाश शुरू की। लगभग दस घंटे बाद बुधवार सुबह सात बजे युवकों का शव बरामद हुआ। देवरिया जनपद के बरहज थाना क्षेत्र के ग्राम बड़कागांव से मंगलवार को दोपहर बाद प्रतिमा लेकर ग्रामीण घाघरा नदी के कपरवार घाट आए थे। विसर्जन करते समय गांव निवासी सुभाष यादव का पुत्र 19 वर्षीय ओमप्रकाश यादव अचानक गहरे पानी में चला गया। नदी में गिरकर डूब गया।

Posted By: Ashish Mishra

डाउनलोड करें जागरण एप और न्यूज़ जगत की सभी खबरों के साथ पायें जॉब अलर्ट, जोक्स, शायरी, रेडियो और अन्य सर्विस