लखनऊ, जागरण संवाददाता। आगरा और नई दिल्ली की ओर जाने वाले यात्रियों के लिए अगले कुछ दिनों तक सफर कष्टदायी होगा। आगरा इंटरसिटी और गोमती एक्सप्रेस के साथ लखनऊ पनकी मेमू 13 सितंबर से निरस्त रहेगी। जबकि मरुधर एक्सप्रेस सहित कई ट्रेनें बदले मार्ग से चलेंगी।

रेलवे ने 64260 पनकी-लखनऊ मेमू के अलावा 12419/12420 लखनऊ-नई दिल्ली गोमती एक्सप्रेस, 12179/12180 लखनऊ -आगरा इंटरसिटी, 13483/13413 और 13484/13414 फरक्का एक्सप्रेस को 25 सितंबर तक निरस्त कर दिया है। जबकि 13237/13239 और 13238/13240 पटना-कोटा एक्सप्रेस 24 सितंबर तक कानपुर-फर्रूखाबाद-कासगंज-मथुरा के रास्ते चलेंगी। इसी तरह 14853, 14863, 14865 वाराणसी-जोधपुर मरुधर एक्सप्रेस भी 24 सितंबर तक कानपुर -फर्रूखाबाद-कासगंज-मथुरा होकर जाएंगी। वापसी में 14854, 14864, 14866 जोधुपर-वाराणसी मरुधर एक्सप्रेस फर्रुखाबाद कासगंज के रास्ते चलेंगी। ट्रेन 15045 गोरखपुर-ओखा एक्सप्रेस 13 से 20 सितंबर तक जबकि 15046 ओखा गोरखपुर एक्सप्रेस 23 सितंबर तक कानपुर-टुंडला-आगरा छावनी-झांसी भेजी जाएंगी। ट्रेन 19053/54 सूरत-मुजफ्फरपुर एक्सप्रेस 14 से 23 सितंबर तक झांसी-आगरा छावनी-टुंडला-कानपुर के रास्ते चलेगी। जबकि 22433/34 गाजीपुर आनंद विहार एक्सप्रेस 14 से 24 सितंबर तक कानपुर-कानपुर अनवरगंज-फर्रूखाबाद-शिकोहाबाद होकर जाएगी।

दिसंबर तक तेज होगा रायबरेली रूट पर ट्रेन संचालन
सुबह सात बजे से 10 बजे तक उतरेटिया और बछरावां के बीच सिंगल लाइन पर खड़ी होने वाली ट्रेनों से यात्रियों को राहत मिलेगी। रेलवे उतरेटिया से रायबरेली तक रेल दोहरीकरण का आधा काम इस साल 31 दिसंबर तक पूरा कर लेगा। उतरेटिया से श्रीराज नगर तक रेलवे का दोहरीकरण होने से ट्रेन संचालन में गति मिल जाएगी। हालांकि श्रीराजनगर से रायबरेली तक डबलिंग के लिए एक साल का समय और लगेगा। इस रूट पर डबलिंग के साथ रेल विद्युतीकरण भी होगा। वहीं ऐशबाग से मानकनगर तक कार्ट लाइन पर रेल संरक्षा आयुक्त का निरीक्षण अगले सप्ताह होगा।

लखनऊ से रायबरेली की दूरी 78 किलोमीटर है। लखनऊ से उतरेटिया तक 12 किलोमीटर डबल लाइन है। साथ ही रेल विद्युतीकरण भी है। उतरेटिया से रायबरेली तक दोहरीकरण का काम चल रहा है। इस रूट पर प्रतापगढ़ होकर वाराणसी और रायबरेली होकर इलाहाबाद की ट्रेनें गुजरती हैं। सुबह लखनऊ आने वाली प्रतापगढ़ इंटरसिटी, गंगा गोमती एक्सप्रेस, त्रिवेणी एक्सप्रेस सहित करीब आधा दर्जन ट्रेनें सिंगल लाइन के कारण खड़ी हो जाती हैं। जुलाई में रेल मंत्री पीयूष गोयल ने कुंभ के मद्देनजर रायबरेली तक दोहरीकरण को जल्द पूरा करने का निर्देश दिया था। इसे देखते हुए रेलवे लखनऊ से 41 किलोमीटर दूर श्रीराजनगर तक दोहरीकरण को 31 दिसंबर 2018 तक पूरा कर लेगा। डीआरएम सतीश कुमार ने बताया कि श्रीराज नगर तक डबलिंग 31 दिसंबर तक पूरी हो जाएगी। विद्युतीकरण भी किया जाएगा। दूसरे चरण में रायबरेली तक काम पूरा करने में एक साल का समय लगेगा।

Posted By: Anurag Gupta