लखनऊ, जागरण संंवाददाता। राष्ट्रीय औषधीय शिक्षा एवं अनुसंधान संंस्थान (नाईपर) रायबरेली के सातवें दीक्षा समारोह का आयोजन गुरुवार को बाबा साहेब भीम राव अंबेडकर विश्विद्यालय में किया गया। इस दौरान सत्र 2020-22 के 74 परास्नातक विद्यार्थियों को औषधि विभाग रसायन और उर्वरक मंत्रालय की सचिव एस अपर्णा और इंजीनियरिंंग अनुसंधान बोर्ड (एसईआरबी) के सचिव एवं आइआइटी कानपुर के प्रोफेसर संदीप वर्मा ने डिग्रियां दीं। इस दौरान पांच विद्यार्थियों को स्वर्ण और पांच को रजत पदक से नवाजा गया।

छात्रों की इस उपलब्धि पर पूरा सभागार तालियों की गड़गड़ाहट से गूंज उठा। आइआइटी कानपुर के प्रोफेसर संदीप वर्मा ने कार्यक्रम के मुख्य अतिथि रहे। उन्होंने कहा कि यह दिन शैक्षणिक उपलब्धियों से इतर कई मायनों में महत्वपूर्ण है, क्योंकि यह समय जीवन के कई अन्य आयामों से परि चित होने तथा नई चुनौतियों को अंगीकार करते हुए सफलता के नए अध्याय को लिखने का है।

उन्होंने कहा कि आज वह समय आ गया है जब आप अपनी अर्जित विद्या, बुद्धिमता श्रम तथा कौशल के साथ स्वास्थ्य के क्षेत्र में निवर्तमान कठिनाइयों को दूर करने के लिए नई तकनीक के विकास में अपना अमूल्य योगदान दें। कार्यक्रम की विशिष्ट अतिथि सचिव औषधि विभाग एस अपर्णा ने कहा कि समारोह में भाग लेते हुए उन्हें अतीव हर्ष की अनुभूति हो रही है। डिग्री पाने वाले छात्रों को बधाई एवं शुभकामनाएं दी।

उन्होंने कहा कि आगे आने वाले दिनों में वैज्ञानिक, शिक्षक, फार्मासिस्ट तथा फार्मास्यूटिकल उद्योग में छात्र अग्रणी भूमिका निभाएंगे। जब इन छात्रों ने रायबरेली में नामांकन करवाया उस समय किसी ने भी कोरोना वायरस जनित भयावह एवं विकरालता की स्थिति के बारे में कल्पना भी नहीं की होगी लेकिन दो वर्ष के बाद आज के इस स्थिति में जो आर्थिक एवं सामाजिक चुनौतियां पैदा हुई है। उनके लिए हम सभी को मिलकर चलने की जरूरत है।

उन्होंने कहा कि कोविड-19-प्रसूत समस्त चुनौतियों को स्वीकारना एवं उनका हल निकालना है। नाईपर के निदेशक डा. यूएसएन ने कहा कि मूर्ति संस्थान लखनऊ स्थित अस्थाई परिसर में कार्यरत है। दीक्षांत समारोह में संस्थान के 74 विद्यार्थियों को उनकी शैक्षणिक डिग्री प्रदान की गई है और इन सभी विद्यार्थियों को उन्होंने अपनी शुभकामनाएं दी।

इन्हें मिला स्वर्ण पदक :

  • खुशबू तिवारी : औषधीय रसायन विभाग
  • सृष्टि आर्य : फार्मास्यूटिकल विभाग
  • प्रियंका तिवारी : फार्माकोलाजी एवं टाक्सिकोलाजी विभाग
  • विपुल शर्मा : नियामक टाक्सिकोलाजी
  • नीता जांगिड़ : बायो-टेक्नोलाजी विभाग

इन्हें मिला रजत पदक :

  • निकिता हिरजी पटेल : औषधीय रसायन विज्ञान
  • खैरनार पूजा संजय : फार्मास्यूटिक्स विभाग
  • श्रुति शिखा चौबे : फार्माकोलाजी एवं टाक्सिकोलाजी विभाग
  • हरसिमर सिंह : नियामक टाक्सिकोलाजी विभाग
  • मनीषा प्रभाकर जाधव : बायोटेक्नोलाजी विभाग

Edited By: Anurag Gupta