लखनऊ, जेएनएन। हाइकोर्ट में नौकरी दिलाने के नाम पर 11 लाख रुपये हड़पने का मामला सामने आया है। सेक्टर 14 इंदिरानगर निवासी आशीष कुमार सिन्हा ने हजरतगंज कोतवाली में तीन लोगों के खिलाफ एफआइआर दर्ज कराई है। आरोप है कि मूलरूप से बदलापुर जौनपुर निवासी पूर्व किराएदार नीलेश गुप्ता, उसके साथी मनोज कुमार शर्मा व हरिओम ने नौकरी का झांसा दिया था। आरोपितों ने उपनिबंधक के पद पर नौकरी दिलाने के लिए 40 लाख रुपये की मांग की थी।

पीडि़त का आरोप है कि आरोपितों ने एक जज को अपना रिश्तेदार बताकर झांसे में लिया था। कई बार में आशीष ने नीलेश के खाते में 11 लाख रुपये स्थानांतरित किया। रुपये लेने के बाद आरोपित नौकरी का आश्वासन देते रहे। काफी समय बीत जाने के बाद जब आशीष को नौकरी नहीं मिली तो उसने पुलिस से शिकायत की। इसपर नीलेश ने एक सप्ताह में रुपये वापस करने की बात कही। इसके लिए उसने पीडि़त को चेक भी दिया था, जो बाउंस हो गया। परेशान होकर आशीष ने हजरतगंज कोतवाली में एफआइआर दर्ज कराकर कार्रवाई की मांग की। इसके बाद पुलिस ने पड़ताल कर नीलेश को दबोच लिया। पुलिस के मुताबिक आरोपित मनोज और हरिओम की तलाश की जा रही है।

नीलेश ने हलवासिया में कंस्ट्रक्शन नाम से ऑफिस खोल रखा था। आरोप है कि आरोपितों ने कई लोगों से नौकरी दिलाने के नाम पर मोटी रकम वसूले हैं। पुलिस का कहना है कि अन्य पीडि़त अगर शिकायत करते हैं तो उनकी एफआइआर दर्ज कर कार्रवाई की जाएगी।

 

शॉर्ट मे जानें सभी बड़ी खबरें और पायें ई-पेपर,ऑडियो न्यूज़,और अन्य सर्विस, डाउनलोड जागरण ऐप

budget2021