लखनऊ, जेएनएन। नेपाल की मूल निवासी 16 वर्षीय किशोरी से सामूहिक दुष्कर्म के आरोप में पुलिस ने चार लोगों को गिरफ्तार किया है। मुख्य आरोपित एक निजी स्कूल का गार्ड है। इसने ही किशोरी को लोगों के घरों में काम दिलाने के बहाने बुलाया था और 13 माह तक उसके साथ दुष्कर्म करता रहा था। इतना ही नहीं, किशोरी को 15 दिन से बंधक भी बनाए रखा था। इसी बीच दोस्तों के साथ मिलकर सामूहिक दुष्कर्म भी किया। इस दौरान किशोरी गर्भवती हो गई तो आरोपित ने उसे छोड़ दिया। 

मामला महानगर इलाके का है। इंस्पेक्टर महानगर यशकांत सिंह के मुताबिक, पीड़िता ने बुधवार को घर जाकर अपनी मां को पेट में दर्द होने की बात बताई। मां ने पीडि़ता की डॉक्टर से जांच कराई। जांच में पता चला कि किशोरी पांच माह के गर्भ से है। पूछताछ में किशोरी ने आपबीती बताई। 

घर जाने के लिए कहने पर मारपीट: पीड़ि‍ता की मां किशोरी को लेकर महानगर कोतवाली पहुंची और मामले की शिकायत दी। छानबीन के दौरान पुलिस को पता चला कि सेक्टर सी महानगर निवासी उप्रेता कुमार ने किशोरी को झांसे में लिया था। इसके बाद उसने उसके साथ दुराचार किया। उसने अपने दोस्तों से भी किशोरी का दुष्कर्म कराया। जब किशोरी ने घर जाने की बात कही तो उसकी पिटाई की और बंधक बनाए रखा। आरोपित उप्रेता किशोरी को खाना भी नहीं देता था। 

ये भी हुए गिरफ्तार: पुलिस ने उप्रेता के अलावा पुराना महानगर निवासी जीतू कश्यप, पांडेय टोला अलीगंज निवासी अजय कुमार और सेक्टर ए महानगर निवासी वरुण तिवारी को गिरफ्तार किया है। पुलिस चारों आरोपितों के आपराधिक इतिहास का पता लगा रही है। 

 

शॉर्ट मे जानें सभी बड़ी खबरें और पायें ई-पेपर,ऑडियो न्यूज़,और अन्य सर्विस, डाउनलोड जागरण ऐप

budget2021