लखनऊ [विकास मिश्र] । धर्मशाला के खूबसूरत स्टेडियम में रविवार को दक्षिण अफ्रीका के खिलाफ घरेलू अंतरराष्ट्रीय क्रिकेट के सत्र की शुरुआत हो जाएगी। इसमें पहले टी-20 और फिर टेस्ट सीरीज होगी। इसी बीच रविवार को एसबीआइ की तरफ से आयोजित ग्र्रीन मैराथन में शामिल होने लखनऊ पहुंचे पूर्व अंतरराष्ट्रीय क्रिकेटर वेंकटेश ने दैनिक जागरण से भारत और दक्षिण अफ्रीका के बीच टी-20 सीरीज के बारे में खुलकर बात की। 

पूर्व भारतीय क्रिकेटर का मानना है कि टी-20 सीरीज में भारत मजबूत आत्मविश्वास के साथ मैदान में उतरेगा। इससे पहले भारतीय टीम घर के बाहर टी-20 विश्व कप की पूर्व चैंपियन वेस्टइंडीज के खिलाफ सीरीज को आसानी से फतह कर अपने घर पहुंची है। हालांकि उनका मानना है कि दक्षिण अफ्रीका टीम के पास मिलर, रबादा और खुद कप्तान डिकॉक हैं, जो किसी भी परिस्थिति में मैच का रूख अपनी तरफ करने में सक्षम हैं। ऐसे में यह सीरीज काफी दिलचस्प होने वाली है। लेग कटर गेंदबाजी के लिए दुनिया में मशहूर रहे वेंकटेश प्रसाद ने कहा, भारत की मजबूत और अनुभवी बल्लेबाजी इकाई है जो उन्हें इस सीरीज में आगे करता है। 

खिलाडि़यों की टीम वापसी से उम्‍मीद 

हार्दिक पांड्या की वापसी से टीम का संतुलन और मजबूत होगा। मुझे विश्वास है, हार्दिक अंतिम एकादश में भी जरूर रहेंगे। मैं यह भी देखना चाहूंगा कि मनीष पांडे अपनी जगह बनाए रखेंगे, क्योंकि वेस्टइंडीज के खिलाफ उन्हें अपनी क्षमता को दिखाने के लिए ज्यादा मौके नहीं मिले। उनका मानना है कि आप अफ्रीकी टीम को किसी भी क्षेत्र में कमजोर नहीं कह सकते। इस टीम ने हमेशा दूसरे देशों में अपने प्रदर्शन का लोहा मनवाया है।

अनुभवहीन गेंदबाजों के आक्रमक तेवर का होगा परीक्षण 

वेंटकेश प्रसाद ने कहा, टी-20 विश्व कप के लिए एक साल से भी कम समय बचा है। ऐसे में भारत को यह तय करना होगा कि क्या शिखर धवन अभी भी रोहित शर्मा के साथ पारी शुरू करने इस विश्व कप में जाएंगे। शिखर इस साल सात टी-20 मैचों से बाहर रहे हैं और इस दौरान अन्य बल्लेबाज रोहित के साथ जोड़ी बनाने में सक्षम रहे हैं। पूर्व भारतीय क्रिकेटर का यह भी कहना है कि यह सीरीज भारत के अनुभवहीन गेंदबाजी आक्रमण की एक और परीक्षा होगी। हमने यही चीज वेस्टइंडीज के खिलाफ देखी थी। उन्होंने कहा, नवदीप सैनी भविष्य के सितारे हो सकते हैं अगर उन्हें पर्याप्त मौके दिए जाएं। उनकी रफ्तार एक्स फैक्टर है और वह तुरंत प्रभाव डालने में सक्षम है, जबकि दीपक चाहर विकेट लेने वाले खिलाड़ी हैं, खासकर पावरप्ले में क्योंकि वह गेंद को हवा में दोनों तरफ स्विंग करा सकते हैं। जब उनसे यह सवाल किया गया कि क्या जडेजा और पांड्या दोनों को अंतिम एकादश में शामिल किया जा सकता है, तो बोले, मेरी अंतिम एकादश में क्रुणाल पांड्या और रवींद्र जडेजा दोनों होंगे। दक्षिण अफ्रीका पुनर्निर्माण की प्रक्रिया में हैं और यह क्विंटन डिकॉक के कंधों पर जिम्मेदारी हैं। विराट की टीम अपनी क्षमताओं के अनुसार खेली तो मेहमानों के लिए आसान नहीं होगा। हालांकि दोनों संतुलित और मजबूत होने से यह सीरीज काफी रोमांचक होने वाली है। 

Posted By: Anurag Gupta

अब खबरों के साथ पायें जॉब अलर्ट, जोक्स, शायरी, रेडियो और अन्य सर्विस, डाउनलोड करें जागरण एप