UP News: लखनऊ, राज्य ब्यूरो। यूपी पुलिस ने तकनीक के साथ एक और कदम बढ़ाया है। पुलिस गश्त की निगरानी के लिए फुट पेट्रोलिंग पोर्टल विकसित किया गया है, जिसके माध्यम से प्रदेश के सभी थानाक्षेत्रों में रोजाना होने वाली पैदल गश्त का पूरा ब्योरा रखा जाएगा। गृह विभाग थानावार इसकी नियमित समीक्षा भी करेगा।

मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ ने सभी जिलों में रोजाना शाम को बाजारों व भीड़भाड़ वाले स्थानों में पुलिस की पैदल गश्त का निर्देश दिया था। थानास्तर पर इसका कितना अनुपालन हो रहा है, इसकी अब आनलाइन निगरानी की व्यवस्था सुनिश्चित की गई है।

अपर मुख्य सचिव, गृह अवनीश कुमार अवस्थी की अध्यक्षता में गुरुवार को लोक भवन में हुई उच्चस्तरीय बैठक में फुट पेट्रोलिंग पोर्टल के लिए अब तक किये गए कार्यों की समीक्षा की गई। अवस्थी ने बताया कि तकनीकी सेवा शाखा ने फुट पेट्रोलिंग पोर्टल को विकसित किया है।

इसके माध्यम से हर जिले में प्रतिदिन थानावार फुट पेट्रोलिंग की सूचना, कार्रवाई व फोटो अपलोड किये जाने की व्यवस्था की गई है। यह पोर्टल पुलिस के स्टेट डेटा सेंटर में होस्टेड है। इसे सीसीटीएनएस (क्राइम एंड क्रिमिनल ट्रेकिंग नेटवर्क एंड सिस्टम) साफ्टवेयर के साथ एकीकृत किया गया है।

पोर्टल प्रयोग करने में सरल व सहज है तथा इसमें फोटोयुक्त एकल पृष्ठ डेटा प्रविष्टि की सुविधा है। थाना स्तर के अनुरोध पर पुलिस अधीक्षक स्तर से अनुमोदन के बाद केवल उसी दिन के लिए डाटा को संशोधित करने की सुविधा भी दी गई है।

पोर्टल का उपयोग कर गश्त करने व गश्त न करने वाले थानों की समीक्षा के लिए रिपोर्ट तैयार की जा सकेगी। साथ ही इसके माध्यम से दैनिक, साप्ताहिक, मासिक व अब तक हुई प्रगति की जानकारी भी की जा सकेगी।

अपर मुख्य सचिव, गृह ने पोर्टल में स्वयं जनित ईमेल से संबंधित अधिकारियों को हर माह सूचना भेजने की व्यवस्था भी सुनिश्चित किये जाने का निर्देश दिया है। कहा है कि हर माह अपलोड होने वाली फोटो का डाटा भी कम से कम एक वर्ष सुरक्षित रखने की व्यवस्था की जाए।

बैठक में सचिव, गृह बीडी पाल्सन, विशेष सचिव, गृह आरपी सिंह, एडीजी तकनीकी सेवा मोहित अग्रवाल, आइजी एसके भगत समेत अन्य वरिष्ठ अधिकारी मौजूद रहे।

Edited By: Umesh Tiwari