अम्बेडकर नगर, संवादसूत्र । अम्बेडकर नगर में जिला मुख्यालय स्थित शहजादपुर बाजार में लगी ऊनी कपड़ों की प्रदर्शनी में आग लगने से 25 दुकानें जलकर राख हो गई। आग बुझाने और कैश रुपये को बचाने के प्रयास में दो अन्य लोग भी झुलस गए। घायलों को अस्पताल में भर्ती कराया गया है, जहां उनका उपचार चल रहा है। दमकल विभाग के कर्मचारियों के पहुंचने और दुकानदारों व स्थानीय लोगों की मदद से किसी तरह आग पर काबू पाया गया, लेकिन तब तक दुकानों में रखा सभी सामान जलकर खाक हो गया। इस दौरान करीब ढाई करोड़ रुपये का नुकसान होने का अंदाजा लगाया जा रहा है। 

वहीं दूसरी तरफ अपनी दुकानें जलने से नाराज व्यापारियों ने मालीपुर शहजादपुर मार्ग को जाम कर दिया। वह देर तक प्रशासन के खिलाफ नारेबाजी करते रहे और अधिकारियों की लापरवाही से दुकानें जलने का आरोप लगाते रहे। व्यापारियों ने इस दौरान दुकानों में आग लगने से हुए नुकसान की भरपाई किए जाने की भी मांग की। नाराज व्यापारियों को पुलिस और प्रशासन के अधिकारी समझाने-बुझाने का प्रयास करते रहे। काफी मशक्कत के बाद पुलिस जाम खोलवा पाने में सफल हो सकी।

शुक्रवार को आधी रात लगी आगः करीब दो माह पूर्व हिमाचल प्रदेश के मनाली जिले के विष्णु व अनिल के साथ आए दो दर्जन व्यापारियों ने प्रशासन की अनुमति के बाद शहजादपुर-मालीपुर मार्ग पर गर्म कपड़ों की 25 दुकानें लगाई थीं। दुकानदार विष्णु ने बताया कि हर दुकान में 10 से 15 लाख के कपड़े थे। उन सभी के साथ आईं महिलाएं शुक्रवार रात पास के ही किराए के मकान में सोने चली गईं, जबकि पुरुष दुकानों की रखवाली के लिए यहीं सो रहे थे। रात करीब 12 बजे दुकान नंबर आठ से अचानक लपटें उठने लगीं। इसकी तपिश से पास की दुकान में सो रहे दुकानदार मनोज की आंखें खुली तो वह भौचक्का रह गया। उसने शोर मचाकर अन्य साथियों को जगाया। अग्निशमन यंत्र से आग बुझाने की कोशिश की गई, लेकिन लपटें काफी ऊंची उठने से कई लोग झुलसा गए। इसके बाद सभी वहां से भाग निकले। चंद मिनटों में ही आग ने सभी 25 दुकानों को अपनी चपेट में ले लिया।

करीब आधे घंटे बाद फायर स्टेशन अकबरपुर से दमकल की तीन गाड़ियां मौके पर पहुंचीं और आग पर काबू पाने की कोशिश की, लेकिन तब तक सब कुछ जल चुका था। 50 फीट से ऊंची लपटों से दुकानदारों के सारे अरमान जलकर राख हो गए। घंटेभर की कड़ी मेहनत के बाद आग बुझ सकी। सुबह 11 बजे तक किसी जिम्मेदार अधिकारी के मौके पर न पहुंचने से दुकानदारों ने शहजादपुर पुलिस चौकी जाने वाले मार्ग को जाम कर दिया। पुलिस अधिकारियों के समझाने के बाद व्यापारियों ने रास्ता खाली कर दिया। तहसीलदार जेपी यादव ने सभी 25 दुकानदारों से बात कर उनके नुकसान का आकलन कर हरसंभव मदद दिलाने का आश्वासन दिया। एसडीएम सदर पवन जायसवाल ने बताया कि दैवीय आपदा के तहत इनको मुआवजा नहीं दिया जा सकता। राशन व खाने की व्यवस्था करा दी गई है।

कैसे चुकता करेंगे कर्ज : विकास, ज्योति, मनोज, विशाल, अनिल, संजू, अर्जुन समेत अन्य दुकानदार के आंसू रुक नहीं रहे। उनका कहना है कि कर्ज लेकर कपड़ों का व्यवसाय शुरू किया था, लेकिन सब नष्ट हो गया, अब कर्ज कैसे चुकाएंगे। शोभा ने बताया कि उनका आठ लाख रुपये का ऊनी वस्त्र और तीन लाख रुपये कैश भी जल गया।

Edited By: Dharmendra Mishra