अयोध्या, जागरण संवाददाता। लखनऊ-गोरखपुर राष्ट्रीय राजमार्ग पर दवा लेकर जा रहे ट्रक में अचानक आग लग गई। आग इतनी भीषण थी कि ट्रक में लदी दवाएं धूं धूंकर जल उठी। घटना मंगलवार देर रात की है। अग्निशमन दल की मदद से आग पर काबू पाने की कोशिश की गई लेकिन तब तक सारी दवाएं जल चुकी थी।

यह है मामला: सोहावल में लखौरी व धन्नीपुर के बीच ओवर ब्रिज के पास बुधवार की देर रात यह हादसा हुआ। ट्रक से धुंआ निकलता देख चालक रज्जन मिश्रा ने सड़क किनारे ट्रक को खड़ा कर अग्निशन दस्ते को सूचना दी। करीब डेढ़ घंटे बाद मौके पर पहुंचे अग्निशमन दल ने ट्रक में लगी आग को बुझाया, लेकिन तब तक ट्रक में लदी दवाएं जलकर राख हो चुकी थीं। चालक ने बताया कि ट्रक में दवाइयां लादकर वह लखनऊ से गोरखपुर जा रहा था। रास्ते में अचानक यह हादसा हो गया। गुरुवार को पहुंचे ट्रक स्वामी ने पुलिस को लिखित सूचना दी। रौनाही थाना के वरिष्ठ उपनिरीक्षक शमशाद अली ने बताया कि इस मामले में अभी तक कोई तहरीर नहीं मिली है। तहरीर मिलते ही उचित कार्रवाई की जाएगी। इस घटना में भी एनएचएआई व टोल कर्मियों की लापरवाही सामने आई है। ट्रक में आग कैसे लगी इसका कोई ठोस कारण अभी सामने नहीं आया है। हाईवे पर वाहनों में आग लगने का यह कोई नया मामला नहीं है। इससे पहले यात्रियों को ले जा रही एक बस में आग लग गई थी। गनीमत रही कि घटना में कोई हताहत नहीं हुआ।

भाजपा नेता डीएल गोस्वामी और अनिल गुप्ता के अनुसार राष्ट्रीय राजमार्ग पर किसी घटना दुर्घटना व वाहन में आग लग जाने पर एन एच ए आई की भी जिम्मेदारी बनती है। गोस्वामी के अनुसार हादसों के वक्त टोल कर्मियों की भूमिका काफी लापरवाही पूर्ण होती है। एनएचएआई की ओर से हाईवे पर पेट्रोलिंग कमजोर है। टोल प्लाजा से घटना स्थल करीब 500 मीटर की दूर है। बावजूद इसके हादसे के बाद एनएचएआई का कोई जिम्मेदार मौके पर नहीं पहुंचा।

Edited By: Rafiya Naz