लखनऊ, जेएनएन। बाहुबली विधायक मुख्तार अंसारी के बेटे अब्बास अंसारी ने धोखाधड़ी करके एक ही लाइसेंस पर पांच असलहे खरीद लिये। उसने एक लाइसेंस बनवाया जिसको दिल्ली ट्रांसफर करवा लिया। वहां फिर से लाइसेंस हासिल किया। इसकी सूचना लखनऊ को नहीं दी। एसटीएफ की जांच के बाद लखनऊ पुलिस ने अब्बास अंसारी पर एक शस्त्र लाइसेंस से अवैध तरीके से कई हथियार खरीदने के आरोप में आम्र्स एक्ट और धोखाधड़ी की धाराओं में मामला दर्ज कर लिया है। जल्द ही जिला प्रशासन और पुलिस अब्बास अंसारी से पूछताछ कर सकती है।

यह है मामला 

दरअसल यूपी एसटीएफ को अगस्त में अब्बास अंसारी के अवैध तरीके से अधिक असलहे खरीदने का पता चला था। एसटीएफ को जांच में पता चला था कि अब्बास अंसारी के नाम वर्ष 2002 में जिलाधिकारी लखनऊ की ओर से डबल बैरल बंदूक का लाइसेंस नंबर 1628 लखनऊ के निशातगंज पेपरमिल कालोनी स्थित उसके पते से जारी किया गया था। इसके बाद अब्बास अंसारी ने जिला प्रशासन की अनुमति और वैरिफिकेशन के बिना ही इस लाइसेंस को नई दिल्ली बसंतकुंज स्थित किशनगंज के पते पर स्थानांतरित करवा लिया गया। दिल्ली में अब्बास अंसारी ने खुद को विख्यात निशानेबाज बताते हुए लाइसेंस नंबर एसडीबीएस/2/2015/1 की यूआइडी (10675002 1283342015) पर चार और असलहे खरीदे। इसकी सूचना लखनऊ पुलिस को भी नहीं दी गई। दो अलग अलग प्रदेशों में लाइसेंस और यूआइडी के जरिए असलहा खरीदने की धोखाधड़ी पर पुलिस ने मामला दर्ज कर लिया है। बाहुबली मुख्तार अंसारी का बेटा अब्बास अंसारी शॉट गन में नेशनल शूटर बताया जाता है। वर्ष 2017 के यूपी विधानसभा चुनाव में भी बसपा ने अब्बास अंसारी को घोसी सीट से टिकट भी दिया था। अब्बास अंसारी यह चुनाव हार गया था।

लाइसेंस के पते पर मिला था ताला

दरअसल यूपी एसटीएफ की एक गोपनीय जांच के बाद बाहुबली विधायक मुख्तार अंसारी के बेटे अब्बास अंसारी का पता लखनऊ पुलिस को 27 अगस्त को हुआ था। एसटीएफ ने लखनऊ पुलिस से अब्बास अंसारी को नोटिस भेजा था। एसएसपी कलानिधि नैथानी के निर्देश पर करीब तीन दर्जन से च्यादा पुलिसकर्मी जब पेपर मिल कॉलोनी स्थित मेट्रो सिटी पहुंची तो वहां ताला लटकता मिला।

कई लाइसेंस हैं मुख्तार और अब्बास के पास

जांच में पता चला है कि बाहुबली मुख्तार अंसारी और उनके करीबी रिश्तेदारों के नाम नौ शस्त्र लाइसेंस जारी किए गये हैं। इनमें से तीन लाइसेंस मुख्तार अंसारी और तीन उनके बेटे अब्बास अंसारी के नाम पर हैं।

दिल्ली से भी हुई चूक

अब्बास अंसारी ने दिल्ली में जब अपने शस्त्र लाइसेंस के हस्तांतरण के लिए आवेदन किया। उस समय दिल्ली प्रशासन और पुलिस ने लखनऊ जिला प्रशासन को इसकी सूचना तक नहीं दी। इस चूक के कारण दो प्रदेशों में दो लाइसेंस बने और उस पर पांच हथियार हासिल किए गए।

एसएसपी लखनऊ कलानिधि नैथानी ने बताया कि अब्बास अंसारी के लाइसेंस पर हथियार खरीदने की गड़बड़ी जांच के बाद सामने आयी है। दस्तावेजों का सत्यापन करवाया जा रहा है। जिसके बाद पूछताछ की प्रक्रिया शुरू होगी।

Posted By: Anurag Gupta

अब खबरों के साथ पायें जॉब अलर्ट, जोक्स, शायरी, रेडियो और अन्य सर्विस, डाउनलोड करें जागरण एप