लखनऊ, जेएनएन। Uttar Pradesh COVID -19 Marriage Guidelines: वैश्विक महामारी कोरोना वायरस संक्रमण के एक बार फिर से तेजी पकड़ने पर मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ ने सभी विभागों को हाईअलर्ट पर कर दिया है। कोरोना वायरस संक्रमण का प्रसार हल्का पड़ता देख लॉकडाउन में लगी बंदिशें महीनों बाद धीरे-धीरे खुलती गईं। जिससे लगा कि कोरोना संक्रमण विदा हो रहा है, लेकिन अब इस महामारी की आहट दोबारा सुनाई देने लगी है। 

दिल्ली में हाहाकार मचा रहे कोरोना से सतर्क उत्तर प्रदेश सरकार ने फिर सामूहिक आयोजनों पर पाबंदी लगाने का फैसला लिया है। मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ ने शादी-समारोहों में सौ से अधिक लोगों को शामिल न होने देने के निर्देश दिए हैं। टीम-11 के साथ समीक्षा बैठक के दौरान उन्होंने सार्वजनिक जगहों पर विशेष सतर्कता बरतने के साथ ही अब वैवाहिक समारोह में भी सिर्फ सौ लोगों के शामिल होने की अनुमति का निर्देश भी दिया है। सीएम योगी आदित्यनाथ के निर्देश के बाद स्वास्थ्य विभाग के साथ ही नगर विकास विभाग भी सक्रिय हो गया है। प्रदेश में अब वैवाहिक समारोह में सिर्फ सौ लोग ही शामिल हो सकेंगे। कोरोना संक्रमण के मामलों को एक बार फिर बढ़ते देखते हुए मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ ने शादी समारोह आदि में 200 व्यक्तियों के शामिल होने की छूट को घटाकर 100 करने के निर्देश दिए हैं।

राज्य सरकार ने अब शादियों में मेहमानों की संख्या घटाते हुए 100 कर दी है। इसके साथ ही शादी में हिस्सा लेने वालों के लिए मास्क पहनना और सोशल डिस्टेंसिंग का पालन करना जरूरी होगा। सीएम योगी आदित्यनाथ के आदेश के मुताबिक जिलाधिकारी स्वयं शादीस्थल जाकर निरीक्षण करें या फिर अधिनस्थ अधिकारी को भेजकर आदेश का सख्ती से पालन करवाएं। किसी भी शादी में सौ से ज्यादा मेहमान होने पर जुर्माना लगाकर कार्रवाई की जाए। मुख्यमंत्री का बेहद सख्त निर्देश है कि इस मामले में किसी भी तरह की लापरवाही बर्दाश्त न की जाए।

सीएम योगी आदित्यनाथ के निर्देश पर यह व्यवस्था दिल्ली से सटे जिलों में शनिवार से ही लागू हो गई है। गाजियाबाद के नोएडा में वैवाहिक समारोह में सिर्फ सौ लोगों के शामिल होने की अनुमति है। यहां पर भी कोरोना वायरस संक्रमण के फिर से बढ़ते मामलों का असर होने की संभावना है। गौतम बुद्ध नगर के जिलाधिकारी ने बताया कि कोरोना के बढ़ते संक्रमण को देखते हुए अब किसी भी समारोह में अधिकतम सौ लोग ही भाग ले सकेंगे। शासन के इस निर्देश का अनुपालन शीघ्र ही सुनिश्चित कराया गया है। इसका उल्लंघन करने पर नियमानुसार कार्रवाई सुनिश्चित की जाएगी। गाजियाबाद के जिलाधिकारी डॉ. अजय शंकर पाण्डेय ने भी निर्देश जारी कर दिया है। गाजियाबाद में अब शादी समारोह में सिर्फ 100 लोगों के शामिल होने की अनुमति है। जिन लोगों ने पहले से अनुमति ले रखी है अब वह दोबारा से नए नियम के तहत परमिशन लेंगे। आगरा के डीएम पीएन सिंह ने इसकी तस्दीक करते हुए कहा कि सीएम योगी आदित्यनाथ के आदेश के मुताबिक अब शादियों में सौ से अधिक मेहमान नहीं होने चाहिए। इसके लिए मौके पर जाकर निरीक्षण का आदेश दिया गया है। इसके साथ ही नये आदेश को सख्ती से लागू कराने का भी निर्देश दिया गया है।

मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ ने कहा कि पड़ोसी राज्यों विशेष रूप से दिल्ली में कोविड-19 की सेकेण्ड वेव के दृष्टिगत प्रदेश में पूरी सतर्कता बरती जाए। कॉन्टैक्ट ट्रेसिंग तथा सर्विलांस सिस्टम को सुदृढ़ बनाए रखा जाए। बाहरी राज्य से आने वाले लोगों की प्रभावी कॉन्टैक्ट ट्रेसिंग की जाए। रेलवे स्टेशन तथा एयरपोर्ट पर कोरोना के दृष्टिगत स्क्रीनिंग की जाए। एम्बुलेंस सेवा को पूरी सक्रियता से संचालित किया जाए। गृह, ग्राम्य विकास, नगर विकास, राजस्व, स्वास्थ्य और औद्योगिक विकास विभागों के पब्लिक एड्रेस सिस्टम का उपयोग लोगों को जागरूक करने के लिए किया जाए। इसके लिए गृह, ग्राम्य विकास, नगर विकास, राजस्व, स्वास्थ्य व औद्योगिक विकास विभागों के पब्लिक एड्रेस सिस्टम का उपयोग करें। मुख्यमंत्री ने कोविड-19 से जंग जीतने के लिए इससे दो कदम आगे की सोच रखे जाने पर बल दिया है। उन्होंने कहा कि कोविड-19 की चेन को तोडऩे में मेडिकल टेस्टिंग की महत्वपूर्ण भूमिका है। यह सुनिश्चित किया जाए कि प्रतिदिन एक तिहाई आरटी-पीसीआर तथा शेष दो तिहाई मेडिकल टेस्ट रैपिड एण्टीजन विधि से हों। सभी लोग मास्क को अनिवार्य रूप से लगाएं। इसके लिए प्रत्येक जनपद में डीएम, एसपी तथा सीएमओ विभिन्न संगठनों एवं स्वयंसेवी संस्थाओं के साथ एक बैठक करें। उन्होंने मास्क न पहनने वालों पर प्रवर्तन की कार्यवाही करने के निर्देश भी दिए।

बीती एक अक्टूबर को प्रदेश सरकार ने अनलॉक की जो गाइडलाइन जारी की थी, उससे लगने लगा था कि अब कोरोना संक्रमण खत्म हो रहा है। महीनों से लगे प्रतिबंध में ढील देते हुए 15 अक्टूबर से शादी व अन्य सामूहिक समारोहों में सौ से बढ़ाकर अधिकतम दो सौ लोगों के शामिल होने की अनुमति सरकार ने दी थी। अभी 37 दिन ही बीते थे कि उस आजादी पर संकट का साया फिर मंडराने लगा है। शनिवार को अपने सरकारी आवास पर आयोजित बैठक में हालात की समीक्षा करते हुए मुख्यमंत्री ने टीम 11 के वरिष्ठ अधिकारियों को निर्देश दिए कि शादी-समारोहों में अब फिर से सौ लोगों के शामिल होने की सीमा तय कर दें।

गृह विभाग ने इसके आदेश जारी करने की तैयारी भी शुरू कर दी है। सीएम योगी आदित्यनाथ ने कहा कि दिल्ली में कोरोना की दूसरी लहर चल रही है, इसलिए यहां भी बहुत सतर्क रहना होगा। लोग मास्क अनिवार्य रूप से लगाएं, इसके लिए हर जिले में जिलाधिकारी, वरिष्ठ पुलिस अधीक्षक-पुलिस अधीक्षक और मुख्य चिकित्सा अधिकारी विभिन्न संगठनों और स्वयंसेवी संस्थाओं के साथ एक बैठक करें। उन्होंने मास्क न पहनने वालों पर कार्रवाई करने के निर्देश भी दिए। योगी ने कहा कि कोविड-19 की चेन को तोडऩे में मेडिकल टेस्टिंग की महत्वपूर्ण भूमिका है। इसे ध्यान में रखकर प्रदेश में टेस्टिंग पूरी क्षमता से करें। यह सुनिश्चित किया जाए कि प्रतिदिन किए जाने वाले टेस्ट में एक तिहाई आरटीपीसीआर और शेष दो तिहाई टेस्ट रैपिड एंटीजन विधि से हों।

मुख्यमंत्री करेंगे खर्च की समीक्षा

सीएम योगी आदित्यनाथ ने मुख्य सचिव आरके तिवारी को विभागवार बजट आवंटन और उसके सापेक्ष व्यय की गई धनराशि की समीक्षा करने के निर्देश दिए। उन्होंने कहा कि इसके बाद वह खुद विभागीय बजट के उपभोग की स्थिति की समीक्षा करेंगे।  उन्होंने कहा कि कोविड-19 से बचाव व उपचार की प्रभावी व्यवस्था को बनाए रखें। इसके बचाव के सम्बन्ध में लोगों को निरन्तर जागरूक किया जाए। 

डाउनलोड करें जागरण एप और न्यूज़ जगत की सभी खबरों के साथ पायें जॉब अलर्ट, जोक्स, शायरी, रेडियो और अन्य सर्विस