लखनऊ [राज्य ब्यूरो]। उत्तर प्रदेश में खाकी के दामन पर फिर छींटे उछले हैं। पीएसी में तैनात एक आइजी पर युवती को देर रात फोन कर परेशान करने का संगीन आरोप लगा है। इंटरनेट मीडिया पर इसे लेकर तरह-तरह के संदेश भी वायरल हो रहे हैं। एक व्यक्ति ने ट्वीट कर कहा है कि आइपीएस अधिकारी मेरी बेटी को देर रात फोन करता है। आइजी के चरित्र पर सवाल उठाते हुए बर्खास्त किए जाने की मांग भी की है। ट्वीट को मुख्यमंत्री, डीजीपी, आइएएस एसोसिएशन व आइपीएस एसोसिएशन को भी टैग किया गया है।

शुक्रवार रात तक यह मामला उत्तर प्रदेश के डीजीपी मुख्यालय तक भी पहुंच गया। डीजीपी मुकुल गोयल का कहना है कि ट्वीट संज्ञान में आया है। पुलिस ट्वीट करने वाले व्यक्ति तक पहुंचने का प्रयास कर रही है। पहले उनसे बात की जाएगी। ट्वीट की प्रमाणिकता का भी पता लगाया जा रहा है। जो भी सत्य सामने आएगा, उसके अनुरूप कठोर कार्रवाई होगी।

दूसरी ओर इंटरनेट मीडिया पर वायरल कुछ संदेशों में ट्वीट करने वाले व्यक्ति को गाजियाबाद का निवासी बताया जा रहा है। पीड़ित का आरोप है कि ये अधिकारी उनकी बेटी को देर रात कॉल करते हैं। आइपीएस काफी समय से परेशान कर रहे हैं। वह नंबर बदल-बदलकर उनकी बेटी को परेशान कर रहे हैं। पीड़ित ने अफसर को बर्खास्त करने की मांग की है।

यूपी पुलिस के अधिकारियों पर पहले भी ऐसे संगीन आरोप लगे हैं। बीते दिनों ही उन्नाव में तैनात एक पीपीएस अधिकारी कानपुर के एक होटल में महिला सिपाही के साथ मिले थे। इस घटना के बाद भी पुलिस विभाग की खूब किरकिरी हुई थी।

Edited By: Umesh Tiwari