लखनऊ, जेएनएन। फास्टैग को लेकर लगने वाली कतारों से नए वाहन खरीदने वालों को राहत मिलेगी। खासकर कार कंपनियों को नए वाहनों में फास्टैग मुफ्त लगाकर देना होगा। केंद्र सरकार ने इस बाबत आदेश दिए हैैं, जिसके बाद यह व्यवस्था अमल में आ गई है। अब हरेक गाड़ी शोरूम के बाहर फास्टैग के साथ ही निकलेगी।

15 दिसंबर से टोल प्लाजा की एक लेन छोड़कर बाकी सभी पर फास्टैग की व्यवस्था अनिवार्य हो जाएगी। ऑनलाइन टोल भुगतान के मद्देनजर सुविधा लागू की गई है। इसे लेकर टोल, बैैंक आदि में जबरदस्त मारामारी है। भविष्य में लोगों को दिक्कत न हो, इस लिहाज से प्रत्येक नई गाड़ी के साथ आरसी, एसेसीरीज के साथ में फास्टैग भी अनिवार्य किया गया है। कंपनियों के लिए बैंक के फास्टैग प्रतिनिधि कार शोरूमों में मौजूद रह कर प्रत्येक नई बिकने वाली गाड़ी के ओनर के नाम की आरसी और उसके पहचान पत्र के जरिये फास्टैग बना रहे हैैं।

केवल रीचार्ज कराना होगी कार मालिक की जिम्मेदारी

नई गाड़ी में फास्टैग लगने के बाद उसको समय-समय पर रीचार्ज कराने की जिम्मेदारी कार ओनर की होगी। पहली बार का रीचार्ज भी कार ओनर ही करवाएगा। नई कार खरीदने की दशा में आपको फास्टैग के लिए कहीं भी लाइन लगने की आवश्यकता नहीं होगी। एनएचएआइ के रीजनल ऑफिसर अब्दुल बासित ने बताया कि कार कंपनियों को ये निर्देश हैं कि वे प्रत्येक नई कार में फास्टैग लगवाकर ही उसकी डिलीवरी करें।

 

Posted By: Anurag Gupta

डाउनलोड करें जागरण एप और न्यूज़ जगत की सभी खबरों के साथ पायें जॉब अलर्ट, जोक्स, शायरी, रेडियो और अन्य सर्विस