लखनऊ,  जेएनएन। राजधानी में असली पुलिस नकली पुलिस वालों को नहीं पकड़ पा रही है और इसका खामियाजा आम लोगों को उठाना पड़ रहा है। खास बात यह है कि पुलिस के वेश में बदमाश दिनदहाड़े महिलाओं के जेवरात उतरवा ले रहे हैं और पुलिस हाथ पर हाथ धरे बैठी है।

100 से ज्यादा हो चुकी हैं वारदात 

यह जानकर हैरानी होगी कि पिछले पांच माह में करीब 100 से अधिक महिलाओं के जेवरात लेकर बदमाश फरार हो चुके हैं। खाकी पैंट पहने इन टप्पेबाजों के बारे में पुलिस के पास कोई ठोस जानकारी नहीं है। यही नहीं अभी तक राजधानी पुलिस ने इनके खिलाफ सख्त कदम उठाने का कोई प्लान भी नहीं बनाया है। यही कारण है कि इनके हौसले बुलंद हैं और लगभग हर दिन इस तरह की घटनाएं प्रकाश में आ रही हैं। 

गिरोह में कर रहे काम, पुलिस नाकाम

महिलाओं को निशान बनाने वाले टप्पेबाज गिरोह में काम कर रहे हैं। वह क्षेत्र बदल-बदलकर घटनाओं को अंजाम देते हैं। खासकर एकांत स्थान पर महिलाओं को रोकते हैं और उन्हें झांसे में लेने के लिए अपने ही साथियों की चेकिंग करने का ढोंग करते हैं। इन घटनाओं से पुलिस के सुबह के समय गस्त करने के दावे फेल साबित हो रहे हैं।

बात करने में होते हैं माहिर 

शातिर बदमाश बातचीत करने में बेहद माहिर होते हैं। वह रौब में लेकर जेवरात उतरवाते हैं और फिर उसे चालाकी से बदल लेते हैं। पीडि़तों के आनाकानी करने पर वह उन्हें जेल भेजने तक की धमकी भी देते हैं। यही वजह है कि पीडि़त झांसे में आकर शरीर से कीमती जेवर उतार देते हैं। 

हाल में हुई घटनाएं 

-जानकीपुरम सेक्टर एच में सविता सिंह के जेवरात लेकर भागे

-डालीगंज निवासी प्रेम कुमारी के शरीर से गहने उतरवाए

-तेलीबाग पुलिस चौकी के पास गुरुवार को सुनीता कौल के लाखों के जेवर उतरवाकर फरार हुए बदमाश

-शीतल खेड़ा निवासी मैकू की पत्नी रानी से जेवर और नगदी ले गए बदमाश

 

लोकसभा चुनाव और क्रिकेट से संबंधित अपडेट पाने के लिए डाउनलोड करें जागरण एप

Posted By: Divyansh Rastogi

अब खबरों के साथ पायें जॉब अलर्ट, जोक्स, शायरी, रेडियो और अन्य सर्विस, डाउनलोड करें जागरण एप