लखनऊ(जागरण संवाददाता)। पूर्व मंत्री व बसपा विधानमंडल दल के नेता लालजी वर्मा के इकलौते बेटे विकास वर्मा (40) ने बुधवार सुबह गोली मारकर आत्महत्या कर ली। अंबेडकर नगर के कटेहरी विधानसभा क्षेत्र से विधायक लालजी वर्मा के बेटे विकास ने विजयंतखंड स्थित अपने आवास पर घटना को अंजाम दिया। मौके पर पहुंची पुलिस उन्हें ट्रॉमा सेंटर ले गई, जहा डॉक्टरों ने मृत घोषित कर दिया। पुलिस ने घटना में प्रयुक्त दोनाली लाइसेंसी बंदूक कब्जे में ले लिया है और खोखा कारतूस भी बरामद कर लिया है।

एक साल पहले भी की थी सुसाइड की कोशिश

एसएसपी दीपक कुमार के मुताबिक, विकास पेट की बीमारी से पीड़ित थे। जिससे अवसाद में थे, उनका इलाज भी चल रहा था। विकास ने एक साल पहले भी अंबेडकरनगर के बनगाव रोड स्थित एक जिम में लाइसेंसी पिस्टल से खुद को गोली मारी थी, लेकिन त्वरित उपचार होने से उसकी जान बच गई थी। गोली मारने से पहले फेसबुक फेसबुक पर सुसाइड नोट भी पोस्ट किया था। वहीं, इंस्पेक्टर विभूतिखंड सत्येन्द्र राय के मुताबिक, विकास ने अपनी दोनाली बंदूक से खुद को मारी गोली। घटना के कारणों की छानबीन की जा रही है।

विकास वर्मा ने जिस समय खुद को गोली मारी उनकी पत्‍‌नी दूसरे कमरे में मौजूद थीं। दोनों बेटे स्कूल गए थे। घटना के समय घर पर विकास का ड्राइवर अजय भी मौजूद था।

घटना के वक्त इंस्पेक्टर पत्‍‌नी घर में थी मौजूद

पूर्व मंत्री लालजी वर्मा के एकलौते पुत्र विकास वर्मा मंडी समिति में कार्यरत था। हालाकि कुछ दिन बाद ही उसने नौकरी छोड़ दी और फिर अपने परिवार को ही समय देने लगा। विकास की पत्‍‌नी माधुरी सिंह वर्मा ड्रग इंस्पेक्टर हैं और लखनऊ में तैनात हैं। इनके दो बेटे अभय (03) और अंश (10) हैं। घटना के वक्त विकास की पत्‍‌नी माधुरी वर्मा दूसरे कमरे में मौजूद थीं और दोनों बेटे स्कूल गए थे। घर पर विकास का ड्राइवर अजय भी मौजूद था।

बसपा सुप्रीमो मायावती भी पहुंची

लाल जी वर्मा के आवास पर पीड़ित परिवार को सात्वना देने पूर्व मुख्यमंत्री मायावती पहुंची। उन्होंने कहा विकास पार्टी से जुड़े थे, इस समय कब्ज की बीमारी से परेशान थे। उन्होंने कहा दुख की घड़ी में हम पीड़ित परिवार के साथ हैं। यहा स्वामी प्रसाद मौर्य, राम मूर्ति समेत कई नेता पीड़ित परिवार को सात्वना देने पहुंचे।

कौन है नेता लालजी वर्मा ?

गौरतलब हो कि लालजी वर्मा बसपा के बड़े कद के नेताओं में गिने जाते हैं। 2007 में कैबिनेट मंत्री भी रह चुके हैं। साल 2012 के हुए चुनाव में वे अपनी सीट से हार गए थे। साल 2017 के विधानसभा चुनाव में उन्होंने बसपा के उम्मीदवार के रूप में कटेहरी सीट से जीत दर्ज की। लालजी की पत्‍‌नी शोभावती वर्मा अंबेडकरनगर की जिला पंचायत अध्यक्ष रह चुकी हैं।

दो बहनों के बीच अकेले भाई थे विकास

टाडा व कटेहरी से चार बार विधायक लालजी के विकास वर्मा एकलौते पुत्र थे। लालजी की दो बेटिया भी हैं। बड़ी बेटी घरेलू महिला और दूसरी बेटी छाया का एमबीबीएस करने के बाद लगभग दो महीने पहले ही विवाह हुआ है।

By Jagran