लखनऊ, जेएनएन। ईवीएम को लेकर उठ रहे तमाम सवालों के बीच प्रशासन पूरी सतर्कता बरत रहा है। मंगलवार को प्रत्याशियों के साथ जिला निर्वाचन कार्यालय में प्रत्याशियों और उनके एजेंटों की बैठक हुई, जिसमें मतदान से जुड़ी तमाम बातों पर चर्चा की गई। जिला निर्वाचन अधिकारी ने लखनऊ और मोहनलालगंज लोकसभा के प्रेक्षकों की मौजूदगी में प्रत्याशियों और प्रतिनिधियों को बताया कि ईवीएम का पहला रेंडमाईजेशन 30 मार्च को राजनीतिक दलों की उपस्थिति में कराया गया था। दूसरा रेंडमाईजेशन उनके एजेंटो की उपस्थिति में कराया जाएगा। 

डीएम के मुताबिक 24 से 26 अप्रैल के दौरान में ईवीएम में कैंडिडेट सेटिंग का कार्य किया जाएगा। कैंडिडेट सेटिंग के दौरान प्रत्याशी व उनके एजेंट उपस्थित रहेंगे और पूरी प्रक्रिया को देखेंगे ताकि पारदर्शिता बनी रहे। ईवीएम तैयार करने के समय मॉक पोल भी कराया जाएगा, जिसमें सभी प्रत्याशी और उनके एजेंट भी भाग ले, जिससे सभी मशीनों की जांच हो सके।
25 से पोस्टल बैलेट से पड़ेंगे वोट
डीएम ने बताया कि 25 अप्रैल से एक मई तक जयनारायण केकेसी पीजी कॉलेज चारबाग में दो पालियों में पोलिंग पार्टियों के कार्मिकों की ट्रेनिंग कराई जाएगी। कुल चार हजार पोलिंग पार्टियों का गठन कर दिया गया है। ट्रेनिंग के साथ ही सभी मतदान कार्मिकों का मतदान पोस्टल बैलेट द्वारा कराया जाएगा। मतदान कार्मिकों के साथ-साथ उन लोगो का भी मतदान कराया जाएगा, जिनके नाम मतदाता सूची में है और वह निर्वाचन कार्यो में लगे हुए है। जिला निर्वाचन अधिकारी ने बताया कि लगभग 30 से 35 हजार कार्मिक पोस्टल बैलेट के द्वारा मतदान करेंगे।
पोस्टल बैलेट के द्वारा मतदान के लिए हर विधानसभा वार 3-3 कुल 27 बूथों की व्यवस्था गई है। उन्होंने कहा कि उक्त पूरी प्रक्रिया की वीडियोग्राफी भी कराई जाएगी और प्रत्याशी और उनके एजेंट भी इस पूरी प्रक्रिया को देखने के लिए उपस्थित रहे। जिला निर्वाचन अधिकारी ने बताया कि पांच मई को जब पोलिंग पार्टी का डिपार्चर होगा, उस दिन भी प्रत्याशी या उनके प्रतिनिधियों की उपस्थिति होनी चाहिए। पार्टियों का प्रस्थान पांच मई को कांशीराम स्मृति उपवन से होगा। 
सुबह सात बजे से होगा मतदान 
छह मई को सुबह सात से शाम छह बजे शाम तक मतदान किया जाएगा। जिला निर्वाचन अधिकारी ने बताया कि इस बार मतदान कुल ग्यारह घंटे चलेगा। उसके बाद ईवीएम को सील किया जाएगा। साथ ही सभी पार्टियों के पोलिंग एजेंट अपने-अपने बूथों पर पहुंच कर पीठासीन अधिकारी से अपने अपने पास लेंगे। साथ ही किसी भी पोलिंग एजेंट को वोटर लिस्ट पोलिंग बूथ से बाहर ले जाने की अनुमति नहीं होगी। उन्होंने कहा कि किसी भी सरकारी कर्मचारी को पोलिंग एजेंट नियुक्ति नहीं किया जाएगा या कोई ऐसा व्यक्ति जिसको प्रशासन द्वारा सुरक्षा मिली हो। जिला निर्वाचन अधिकारी ने बताया कि तीन बजे के बाद किसी भी पोलिंग एजेंट की चेंजिंग नहीं की जाएगी। पोलिंग एजेंटो को मतदान शुरू होने से पहले मॉक पोल के समय व पोलिंग खत्म होने के बाद बूथ में उपस्थित रहना अनिवार्य है।
प्रेक्षकों ने भी दिए निर्देश 
सामान्य प्रेक्षक 35 लखनऊ लोक सभा से शैलेंद्र सिंह व 34 मोहनलालगंज लोक सभा से शरद लक्ष्मण और पुलिस प्रेक्षक दीपक पांडेय ने भी प्रतिनिधियों और एजेंटों के साथ बातचीत की। बैठक में मुख्य विकास अधिकारी मनीष बंसल, वरिष्ठ पुलिस अधीक्षक कलानिधि नैथानी, उप जिला निर्वाचन अधिकारी व अपर जिलाधिकारी प्रशासन श्रीप्रकाश गुप्ता, अपर जिलाधिकारी पश्चिमी संतोष कुमार वैश्य, अपर जिलाधिकारी पूर्वी वैभव मिश्रा, अपर जिलाधिकारी ट्रांस गोमती उपस्थित रहे। 

Posted By: Anurag Gupta

डाउनलोड करें जागरण एप और न्यूज़ जगत की सभी खबरों के साथ पायें जॉब अलर्ट, जोक्स, शायरी, रेडियो और अन्य सर्विस