लखनऊ, राज्य ब्यूरो। Medical Education In UP प्रदेश में सात राजकीय मेडिकल कालेजों से संबद्ध सात नर्सिंग व एक पैरामेडिकल कालेजों में जरूरी उपकरण खरीदने के लिए 7.50 करोड़ रुपये खर्च किए जाएंगे। मानक के अनुसार बेहतर ढंग से पढ़ाई व प्रशिक्षण विद्यार्थियों को दिया जा सके, इस पर चिकित्सा शिक्षा विभाग पूरा जोर दे रहा है।

नर्सिंग व पैरामेडिकल कालेजों में सुधार के लिए सभी जरूरी उपाय किए जा रहे हैं। जल्द सरकारी व निजी नर्सिंग और पैरामेडिकल कालेजों के मानकों की जांच के लिए मिशन निरामया: भी शुरू किया जाएगा। जिन जिलों के राजकीय मेडिकल कालेजों के संबद्ध नर्सिंग कालेजों में उपकरण खरीदे जाएंगे उनमें गोरखपुर, कन्नौज, प्रयागराज, मेरठ, आगरा व कानपुर और इसके अलावा कालेज आफ नर्सिंग कानपुर शामिल है।

वहीं राजकीय मेडिकल कालेज झांसी से संबद्ध पैरामेडिकल कालेज शामिल है। 7.50 करोड़ रुपये से यहां नर्सिंग फाउंडेशन एंड मेडिकल सर्जिकल लैब, प्री क्लीनिकल साइंस लैब और उससे संबंधित जरूरी उपकरण खरीदे जाएंगे। ताकि यहां विद्यार्थियों को बेहतर ट्रेनिंग दी जा सकी।

बता दें क‍ि मुख्‍यमंत्री योगी आद‍ित्‍यनाथ का प्रदेश की स्‍वास्‍थ्‍य सुव‍िधाओं को बेहतर करने के साथ ही मेड‍िकल श‍िक्षा व्‍यवस्‍था को दुरुस्‍त करने पर भी पूरा फोकस है। इसी को ध्‍यान में रखते हुए मुख्‍यमंत्री ने अधिकारियों को सख्‍त न‍िर्देश देते हुए कहा था क‍ि किसी भी कीमत पर मानक पूरे न करने वाले नर्सिंग व पैरामेडिकल संस्थानों को मान्यता नहीं मिलनी चाहिए। 

सीएम ने अध‍िकार‍ियों को न‍िर्देश देते हुए कहा था क‍ि मिशन निरामया: के तहत माध्यमिक स्कूलों में पढ़ रहे छात्रों को नर्सिंग व पैरामेडिकल कोर्सेज के महत्व व आगे करियर के बारे में जानकारी दी जाए। ताकि विद्यार्थियों की दिलचस्पी इन कोर्सेज की ओर बढ़ सकें। नर्सिंग व पैरामेडिकल कोर्सेज की पढ़ाई कर निकलने वाले छात्रों को नौकरी के लिए अच्छे अवसर मिलें इसके लिए बड़े प्राइवेट अस्पतालों से भी संपर्क किया जाए।

Edited By: Prabhapunj Mishra