लखनऊ, जागरण संवाददाता। ऐजेंट से शाइन सिटी कंपनी के निदेशक बने जालसाज चमन लाल दिवाकर को ईओडब्ल्यू (आर्थिक अपराध अनुसंधान संगठन) की शाखा ने बुधवार को गोमतीनगर वरदानखंड से गिरफ्तार कर लिया। उसके खिलाफ साजिश, कूट रचित दस्तावेज तैयार करना समेत अन्य धाराओं में कई मुकदमें दर्ज हैं।

इंस्पेक्टर गोमतीनगर केशव कुमार तिवारी ने बताया कि चमन लाल दिवाकर विवेकखंड एक का रहने वाला है। वह शाइन सिटी में एजेंट था। उसने कंपनी को गोसाईगंज, चिनहट और मोहनलालगंज इलाके में कई जमीने बहुत सस्ते दाम में दिलवाई थीं। वह शाइन सिटी के मालिक राशिद नसीम का बहुत करीबी है। उसने करोड़ों रुपये की ठगी की। उसके खिलाफ विभिन्न थानों में मुकदमें दर्ज हैं।चमन लाल दिवाकर शाइन सिटी कंपनी में शेयर होल्डर था। ईओडब्ल्यू की टीम ने गिरफ्तारी के बाद गोमतीनगर थाने में ही चमनलाल दिवाकर को दाखिल किया। चमन लाल से पूछताछ में कई अन्य साक्ष्य भी टीम ने जुटाए हैं। वहीं, ईओडब्ल्यू के अधिकारी ने बताया कि शाइन सिटी के कर्मचारियों के खिलाफ दर्ज धोखाधड़ी और कूटरचित दस्तवाजे समेत अन्य मामलों में आरोपितों की तलाश में कई टीमें गठित की गई हैं। जल्द ही जालसाजी के अन्य आरोपितों को भी गिरफ्तार किया जाएगा। वहीं, कंपनी का मालिक राशिद नसीम भागकर दुबई चला गया। वह दुबई से अपना नेटवर्क चला रहा है। राशिद प्रापर्टी के साथ ही रुपये दोगुना करने का झांसा देकर और कई अन्य मदों में निवेश कराने की स्कीम चलाकर कर्मचारियों की मदद से लोगों को ठगता था। राशिद पर 60 हजार करोड़ की ठगी का आरोप है। उसके खिलाफ कंपनी के एक कर्मचारी ने इलाहाबाद हाईकोर्ट में वाद भी दायर कर रखा है।

मई 2017 में पड़ी थी बड़ी डकैती: चमनलाल दिवाकर के घर पर आठ मई 2017 में डकैती पड़ी थी। डकैतों ने 30 लाख से अधिक का माल लूटा था। डकौतों ने करीब पौने घंटे चमनलाल के घर में लूटपाट की थी। इस दौरान डकैतों ने चमनलाल की पत्नी सुनीता, तीन बेटियों और बेटा पीयूष को बंधक बना लिया था।

Edited By: Rafiya Naz