लखनऊ, राज्य ब्यूरो। E-Learning System In UP प्रदेश सरकार मुख्यमंत्री अभ्युदय योजना के तहत संचालित कोचिंगों को और बेहतर करेगी। प्रतियोगी परीक्षार्थियों की सुविधा के लिए सरकार 'ई-लर्निंग प्लेटफार्म' बनाने की जा रही है। इससे प्रतियोगी परीक्षाओं में प्रदेश के छात्र-छात्राओं का प्रतिनिधित्व बढ़ेगा। इसे मोबाइल एप के रूप में विकसित किया जाएगा।

अभ्यर्थियों को निश्शुल्क उपलब्ध कराया जाएगा ई-कंटेंट

  • समाज कल्याण विभाग के प्रमुख सचिव डा. हरिओम ने बताया कि छात्रों की सुविधा के लिए राज्य स्तर पर 'ई-लर्निंग सिस्टम' की स्थापना की जा रही है।
  • अत्याधुनिक सूचना एवं प्रौद्योगिकी व शैक्षणिक तकनीक का प्रयोग करते हुए पीपीपी माडल पर उत्कृष्ट विषयों के शिक्षकों की सहायता से पूरे सिलेबस का ई-कंटेंट तैयार कराया जाएगा।
  • उन्होंने बताया कि ई-लर्निंग प्लेटफार्म प्रतिभागियों के लिए बहुत सहज व सरल पोर्टल के रूप में बनाया जाएगा। इसे अभ्यर्थियों को निश्शुल्क उपलब्ध कराया जाएगा।
  • प्रमुख सचिव ने इसका शासनादेश जारी कर दिया है। प्रत्येक जिले के मुख्यमंत्री अभ्युदय केंद्र, समाज कल्याण विभाग द्वारा संचालित आवासीय परीक्षा पूर्व प्रशिक्षण केंद्र, छात्रावास व आश्रम पद्धति विद्यालय, राज्य स्तर पर मुख्यमंत्री अभ्युदय सचिवालय में संपर्क केंद्र स्थापित किए जाएंगे।

युवाओं को म‍िलेगा प्रतियोगी परीक्षाओं में इसका फायदा

इस योजना के लिए छत्रपति शाहूजी महाराज, शोध एवं प्रशिक्षण संस्थान भागीदारी भवन, लखनऊ सचिवालय के रूप में कार्य करेगा। समाज कल्याण मंत्री असीम अरुण ने बताया कि 'ई-लर्निंग सिस्टम' से मुख्यमंत्री अभ्युदय योजना के अंतर्गत प्रतियोगी परीक्षाओं जैसे सिविल सेवा परीक्षा, पीसीएस, जेईई, नीट, एनडीए, सीडीएस इत्यादि की तैयारी कर रहे युवाओं को बड़ा फायदा मिलेगा।

Edited By: Prabhapunj Mishra

जागरण फॉलो करें और रहे हर खबर से अपडेट