लखनऊ। 1999 से उम्मीदों की 'लूप लाइन' में खड़ी पूर्व प्रधानमंत्री अटलबिहारी वाजपेयी के सपनों की रेल गुरुवार से चलेगी। पूर्व प्रधानमंत्री वाजपेयी ने 1999 में आगरा के बटेश्वर से इटावा के लिए इस रेल खंड का शिलान्यास किया था, मगर परियोजना को ट्रैक पर आते-आते इतना लंबा वक्त गुजर गया। 25 को अटल बिहारी का जन्मदिन है, इसलिए उसी दिन से इस पर आगरा-इटावा पैसेंजर नियमित से शुरू की जा रही है। इतने वर्षों की कसरत के बाद केंद्र सरकार पूर्व प्रधानमंत्री अटल बिहारी वाजपेयी को जन्मदिन का तोहफा देने जा रही है। उनकी जन्मस्थली बटेश्वर से रेल राज्यमंत्री मनोज सिन्हा और केंद्रीय मानव संसाधन विकास राज्यमंत्री डॉ. रामशंकर कठेरिया बटेश्वर-इटावा डीएमयू को हरी झंडी दिखाएंगे। इसके लिए रेलवे ने बटेश्वर हाल्ट को दुल्हन की तरह सजाया है। उद्घाटन समारोह में फतेहपुर सीकरी सांसद चौ. बाबूलाल, महाप्रबंधक उत्तर मध्य रेलवे अरुण सक्सेना, मंडल रेल प्रबंधक प्रभाष कुमार के अलावा क्षेत्रीय नेता और अधिकारी शामिल होंगे। उधर, बटेश्वर में बिजकौली गांव पर बने रेलवे ट्रैक का बुधवार को सपा के क्षेत्रीय विधायक अरिदमन सिंह ने निरीक्षण किया।

ये हैं हॉल्ट और समय सारिणी

आगरा से इटावा

आगरा शाम 4.30 बजे, भांडई 4.46 बजे, करौंधना कला 4.59 बजे, शमसाबाद 5.18 बजे, धिमश्री 5.30 बजे, फतेहाबाद 5.51 बजे, मानिकपुरा 6.13 बजे, भदरौली 6.30 बजे, बटेश्वर 6.45 बजे, बाह 7.01 बजे, जैतपुर कलां 7.17 बजे, मानसिंह का पुरा 7.31 बजे, ऊदी 8.08 बजे, इटावा रात 9 बजे।

इटावा से आगरा

इटावा सुबह 5.55 बजे, ऊदी 6.20 बजे, मान सिंह का पुरा 6.53 बजे, जैतपुर कला 7.07 बजे, बाह 7.24 बजे, बटेश्वर 7.38 बजे, भदरौली 7.51 बजे, मानिक पुरा 8.06 बजे, फतेहाबाद 8.28 बजे, धिमश्री 8.47 बजे, शमसाबाद 9.00 बजे, करौंधना कला 9.19 बजे, भांडई 9.33 बजे और आगरा कैंट सुबह 10 बजे पहुंचेगी।

Posted By: Ashish Mishra