लखनऊ, जागरण संवाददाता। डायरिया, टायफाइड और बच्चों के पेट से जुड़े संक्रमण में शुद्ध जल और खानपान पर ध्यान देना आवश्यक है। टायफाइड होने पर मरीज को मुलायम और सुपाच्य खाना देना चाहिए। शरीर में पानी की कमी नहीं होने देना चाहिए। दैनिक जागरण के हेलो डाक्टर कार्यक्रम में वीरांगना अवंतीबाई महिला चिकित्सालय के बाल रोग विशेषज्ञ और वरिष्ठ परामर्शदाता डा. सलमान खान ने टायफाइड और डायरिया जैसे संक्रमण पर लोगों के सवालों के जवाब दिए। पेश हैं कुछ प्रमुख प्रश्न और उनके उत्तर:

मैं हृदय रोगी हूं। टाइफाइड और डायरिया से बचने के लिए क्या कर सकता हूं? रामजियावन, अयोध्या

अपने हृदय संबंधित दवाओं का सेवन समय पर करते रहें। चिकनाई वाले खाद्य पदार्थ परहेज करें। चिकित्सक के कहे अनुसार ही कसरत करें। तनाव न लें। योग करें और घर से बाहर निकलते हुए पानी की बोतल हमेशा अपने पास रखें और बाहर के खानपान से दूरी बनाएं।

मुझे चार दिन से बुखार हो रहा है। बदन दर्द और सिर दर्द होता है। अजय गुप्ता, सुल्तानपुर

यह सामान्य मौसमी बुखार है। पांच से सात दिनों तक यह चलता है। यदि सात दिन बाद भी कमजोरी बनी रहे तो चिकित्सक को दिखला लें। इसके अलावा शरीर में पानी की कमी न होने दें और जरूरत पडऩे पर पेरासिटामाल की दवा हर छह घंटे पर खाएं।

टाइफाइड से बचाव के तरीके क्या हो सकते हैं? प्रहलाद कुमार गुप्ता, सीतापुर

टाइफाइड बैक्टीरिया जनित बीमारी है जो आंतों में संक्रमण फैलाती है। इसे मियादी बुखार भी कहते हैं। इससे बचने के लिए घर में शुद्ध पानी रखें। यदि पानी में किसी भी तरह के संक्रमण की आशंका हो तो 20 लीटर पानी में क्लोरीन की एक गोली मिलाकर उसे दो घंटे के लिए छोड़ दें। दो घंटे बाद उस पानी का सेवन करें। साफ सफाई का ध्यान रखें। बड़े नाखून न रखें। मुलायम खाना खाएं।

मेरे पिता 55 वर्षीय हैं। 15 दिनों पहले टायफाइड हुआ था। अब भी शरीर में दर्द होता है। क्या करें?  सोमित कुमार, अम्बेडकर नगर

टायफाइड को पूरी तरह ठीक होने में कुछ वक्त लगता है। शरीर में कमजोरी भी रह सकती है। पानी की अधिकता रखें। ओआरएस का घोल दें। कमजोरी के लिए बी काम्प्लेक्स की दवा दे सकते हैं।

पत्नी को 10 दिन पहले टायफाइड का संक्रमण हुआ था। अब तक दवा खा रही है। ठीक होने में कितना समय लगेगा? नितिन कुमार, हरदोई

टायफाइड की दवा का कोर्स दो से तीन सप्ताह तक चल सकता है। कोर्स पूरा करें। चिकित्सकीय परामर्श लेते रहें। ठीक होने की स्थिति में एक बार जांच फिर से करवाएं। इसके साथ ही मरीज को भरपूर आराम करने दें। शरीर में पानी की कमी न होने दें। मुलायम चीजें खाने में दें। पानी को 20 मिनट तक उबाल कर ठंडा कर पियें।

मेरे पिता को 20 दिन से टाइफाइड की दवा चल रही है? क्या यह गंभीर हो सकता है? हरिश्चंद्र प्रजापति, जौनपुर 

घबराने की बात नहीं है। टाइफाइड का इलाज लंबा चल सकता है। अभी एक हफ्ता और दवाई खिलाइए। उसके बाद चिकित्सक के परामर्श के बाद दवाई बंद करें। तब तक मरीज को आराम करने दें और शरीर में पानी की कमी न होने दें। सुपाच्य भोजन दें।

मुझे एक साल पहले टाइफाइड हुआ था। 10 दिन पहले दोबारा संक्रमण हो गया। शरीर में बहुत कमजोरी आ गई है। क्या करें? वंदना गुप्ता, गोंडा

घर में पानी 20 मिनट तक उबाल कर ठंडा कर लें। उसके बाद पानी का सेवन करें। दवा का कोर्स पूरा कर लें। घर में यदि आर ओ हो तो उसके फिल्टर की जांच करवा लें। साफ सफाई का ध्यान रखें। हाथों के नाखून काट कर रखें। कच्ची सब्जियां, फल, सलाद, चटनी आदि न खाएं। मुलायम खाना खाएं।

मेरा नौ महीने का बच्चा है। उसे डायरिया से कैसे बचाएं? क्या सावधानियां बरतें? गरिमा दीक्षित, खदरा

नौ महीने के बच्चे को मां का दूध भी पिलाएं और साथ में घर में जो भी खाना खा रहे हों उसे बच्चे के साथ बैठकर खाएं। बच्चे को खाने में घर पर जमाए दही, गाढ़ी दाल, दलिया, पनीर आदि खिला सकते हैं। समय पर सभी टीकाकरण पूरे करवाएं। डायरिया हो जाने की स्थिति में बच्चे को ओआरएस का घोल समय-समय पर पिलाएं। चावल का माड़, नारियल पानी और मां के दूध या पानी में जि‍ंक की गोली मिलाकर 14 दिन तक पिलाएं। डिब्बाबंद जूस या खाद्य पदार्थ न खिलाएं।

डायरिया और टाइफाइड में इन बातों का रखें ध्यान

  • शरीर में पानी की कमी न होने दें।
  • साफ सफाई का ध्यान रखें।
  • बाहर के खानपान से परहेज करें।
  • बासी खाना, कच्ची सलाद, रायता, सैंडविच, चटनी आदि न खाएं।
  • सड़क के किनारे निकाले जा रहे गन्ने के जूस से परहेज करें।
  • बर्फ और बर्फ से बने उत्पाद का सेवन न करें।
  • बाहर जाते समय अपने साथ पानी की एक बोतल रखें।
  • यदि बाहर भूख लग रही हो तो संतरा, केला, लीची, मौसंबी जैसे छिलके वाले फलों का सेवन करें।
  • बर्तन की साफ-सफाई का ध्यान रखें और अपने आसपास गंदगी न होने दें।
  • दो साल से छोटे बच्चों में खानपान का खास ख्याल रखें।
  • बच्चों को अधिक से अधिक सुपाच्य और बेहतर खाना खिलाएं।
  • ओआरएस का घोल घर में जरूर रखें।
  • यदि ओआरएस का घोल न मिल पाए तो एक लीटर पानी में छह चम्मच चीनी, आधा चम्मच नमक और नींबू की कुछ बूंदे मिलाकर घोल बना कर उसका सेवन करें।
  • पांच वर्ष से छोटे बच्चों को डायरिया होने पर 14 दिनों तक जि‍ंक की गोली दें।
  • डायरिया हो जाने की स्थिति में छोटे बच्चों को चावल का माड़, दाल का पानी, शिकंजी और नारियल पानी पिलाएं।

Edited By: Anurag Gupta