लखनऊ, जेएनएन। शासन द्वारा लखनऊ के बालिका विद्यालयों की 89 अध्यापिकाओं की जांच व वेतन रोके जाने के निर्देश के स्थान पर जिला विद्यालय निरीक्षक डॉ मुकेश कुमार द्वारा 3400 शिक्षक, शिक्षिकाओं एवं कर्मचारियों का जनवरी 2020 माह से वेतन रोक दिया गया। इससे नाराज माध्यमिक शिक्षक संघ ने मोर्चा खोलने का ऐलान किया है। जिला संगठन के पदाधिकारी एवं कार्यकर्ता 30 जनवरी 2020 को जिला विद्यालय निरीक्षक कार्यालय पर दोपहर 1 बजे विरोध प्रदर्शन करेंगे।

मंगलवार को जिला संगठन अध्यक्ष डॉ आरके त्रिवेदी की अध्यक्षता में जिला संगठन कार्यालय उदयाचल में हुई बैठक में लिया गया। उप्र माध्यमिक शिक्षक संघ के प्रदेशीय मंत्री एवं जिला संरक्षक डॉ आरपी मिश्र ने बताया कि शासन के संयुक्त सचिव जय शंकर दुबे ने 21 जनवरी को शिक्षा निदेशक ने पत्र जारी कर सहायता प्राप्त माध्यमिक बालिका विद्यालयों के लगभग 89 अध्यापकाओं की अनियमित रूप से मृत पदों पर की गई नियुक्तियों का वेतन भुगतान रोकने व भुगतान की गई धनराशि की वसूली के लिए भी तीन बिंदुओं पर आख्या मांगी थी। मगर डीआइओएस ने इसके ठीक विपरीत जाकर जनपद के सभी बालक व एवं बालिका विद्यालयों से 18 ¨बदुओं की सूचना मांगी। साथ ही जनपद के लगभग 3400 शिक्षक शिक्षिकाओं व कर्मचारियों का जनवरी माह के वेतन भुगतान की कार्रवाई भी रोक दी।

डा. आर पी मिश्र ने कहा कि डीआइओएस द्वारा जारी आदेश तत्काल वापस न लिया गया तो संगठन 30 जनवरी को शिक्षा भवन स्थित जिला विद्यालय निरीक्षक कार्यालय पर उग्र प्रदर्शन के लिए मजबूर होगा। इस संबंध में जिला विद्यालय निरीक्षक डा. मुकेश कुमार सिंह का कहना है कि वेतन किसी शिक्षक का नहीं रोका गया है। यह सच है कि इन सभी शिक्षकों की नियुक्ति व वेतन संबंधी जानकारी मांगी गई है।

 

इंडियन टी20 लीग

डाउनलोड करें जागरण एप और न्यूज़ जगत की सभी खबरों के साथ पायें जॉब अलर्ट, जोक्स, शायरी, रेडियो और अन्य सर्विस