लखनऊ, जेएनएन। तीन दिन तक दुनियाभर के आर्किटेक्ट के बीच हुए विचार- विमर्श के बाद आर्किटेक्ट कुंभ का समापन हो गया। इंदिरा गांधी प्रतिष्ठान में आयोजित इस आर्किटेक्ट कुंभ के समापन अवसर पर उप मुख्यमंत्री डॉ दिनेश शर्मा ने कहा कि उत्तर प्रदेश को निर्माण कार्यो का केंद्र बनाया जाएगा। इसलिए आर्किटेक्ट व्यवसाय के लिए यहां सुनहरा भविष्य है। उन्होंने पहले यहां प्रदर्शनी का निरीक्षण किया और स्टॉलों के बारे में जानकारी ली। डॉ शर्मा ने कहा कि आर्किटेक्ट कुंभ में आए हुए लोगों को यहां बहुत कुछ सीखने को मिलेगा।

यहां आए हुए विशेषज्ञों से निर्माण के बारे में लोग सकारात्मक सोच लेकर जाएंगे। उत्तर प्रदेश में निवेश के बारे में लोगों की सोच में सकारात्मक बदलाव आया है। आने वाले समय में प्रदेश में करोड़ों रुपये का निवेश होगा। उत्तर प्रदेश निर्माण कार्यो का हब बने, इसके लिए सरकार हरसंभव प्रयास कर रही है। आने वाले समय में प्रदेश में रोजगार की अपार संभावनाएं होंगी। अंतिम दिन औरंगाबाद से आए विख्यात वास्तुविद् शिरीश बेरी ने कहा कि स्थानीय निर्माण सामग्री से भवनों का निर्माण कराएं। इससे बेहतर तरीके से मकान बनेगा। आर्किटेक्ट कुंभ के संयोजक केके अस्थाना ने सभी डेलीगेट्स का आभार व्यक्त किया।

 

16 देशों के छात्र करेंगे क्षमता का प्रदर्शन

इंटरनेशनल यंग मैथमेटिशियन कन्वेंशन में देश-विदेश के छात्र तार्किक एवं बौद्धिक क्षमता का प्रदर्शन करेंगे। सिटी मान्टेसरी स्कूल गोमतीनगर प्रथम कैंपस में रविवार को आइवाइएमसी का उद्घाटन डिप्टी सीएम डॉ. दिनेश शर्मा ने किया।

सीएमएस की ओर से आयोजित इस प्रतियोगिता में भारत के अलावा अमेरिका, साउथ अफ्रीका, बांग्लादेश, ब्राजील, भूटान, इंडोनेशिया, नेपाल, फिलीपींस, रूस, ताईवान समेत 16 देशों के 700 बाल गणितज्ञ हिस्सा ले रहे हैं। प्रधानाचार्य आभा अनंत ने कहा कि यहां सभी छात्र एक मंच पर अपनी बौद्धिक एवं तार्किक क्षमता का प्रदर्शन करेंगे। सीएमएस संस्थापक डॉ. जगदीश गांधी ने कहा कि उद्देश्य गणित में रुचि बढ़ानी है।

 

Posted By: Anurag Gupta

डाउनलोड करें जागरण एप और न्यूज़ जगत की सभी खबरों के साथ पायें जॉब अलर्ट, जोक्स, शायरी, रेडियो और अन्य सर्विस