लखनऊ, जेएनएन। प्रकाश पर्व के बाद सोमवार को उल्लास के साथ जमघट मनाया गया। पटाखे के धूम-धड़ाके के बाद एक ओर जहां राजधानी में सब कुछ शांत दिखा, तो वहीं कुछ लोग आसमानी जंग को अपने-अपने घर से निकले। ऐशबाग स्थित अपने आवास की छत पर खड़े होकर उपमुख्यमंत्री दिनेश शर्मा ने पत्नी लक्ष्मी शर्मा के साथ पतंगबाजी कर पेंच कांटे। मैदान से लेकर घर की छतों पर हर जिसको मौका मिला। लोग अपनी-अपनी टोली संग पहुंचे और जमघट पर छिड़ गई आसमानी जंग। जमीन पर रहकर छिड़ी इस आसमानी जंग में लोगों ने एक-दूसरे के पेच काटे। पेच कटते ही पास खड़े लोगों की वो काटा की आवाज गूंज उठी।

पुराने शहर हो या फिर नई कालानी। हर जगह पतंगबाजी से आसमान में लड़ते पेच और सतरंगी पतंगों की बिखरी छटा का नजारा दिल को छू लेने वाला था। एक ओर जहां आसमान में पेच काटने के लिए तरह-तरह की तरकीबें लगाई जा रही थी, तो दूसरी ओर जमीन पर दर्शक पतंगबाजों का हौसला बढ़ाने के लिए उनका उत्साह वर्धन कर रहे थे। पतंगबाजी को लेकर यूं तो तैयारियां कई दिन पहले से ही शुरू हो चुकी थी, लेकिन जमघट के दिन रंगबिरंगी पतंगों के साथ बचे, युवा और बुजुर्ग सभी एक रंग में रंग गए और जहां जिसको जगह मिली शुरू हो गया पेच काटने में।

उम्र के बंधन से दूर पुराने शहर के लाजपत नगर और नीबू पार्क के सामने बुद्धा पार्क के पास सुबह से ही आसमान में पतंगों का लगा जमघट देर शाम तक जारी रहा। कुछ यही नजारा सआदतगंज, हैदरगंज, चारबाग व आलमबाग सहित अन्य जगह भी देखने का मिला। पुराने शहर के इन मुहल्लों में छतों से पेच लड़ाते लोग एक-दूसरे की पतंगों को काटने में लगे रहे।

पतंग कटी नहीं कि उत्साह से लबरेज बच्‍चों की टोली उसके पीछे दौड़ पड़ी। जिसके हाथ में पतंग लगती उसकी खुशी देखते ही बन रही थी। इसी तरह राजधानी के झूलेलाल पार्क, लक्ष्मण मेला व फन मॉल के पीछे मैदान सहित अलीगंज, इंदिरा नगर व चिनहट सहित कई इलाकों में भी पतंगबाजी का शौक देखने का मिला। जमघट के दिन आसमान में भले ही पतंगों की जंग चल रही हो, लेकिन उनकी बनावट एकता और भाईचारे का संदेश दे रही थीं। 

Posted By: Anurag Gupta

डाउनलोड करें जागरण एप और न्यूज़ जगत की सभी खबरों के साथ पायें जॉब अलर्ट, जोक्स, शायरी, रेडियो और अन्य सर्विस