सुलतानपुर, जेएनएन। पांच दिन पहले गोमती नदी में नगर के एक दवा व्यवसायी के पुत्र द्वारा गोमती नदी में छलांग लगाने का मामला सामने आया था। पुलिस ने तीन दिनों तक गोताखोरों की मदद से उसकी खोजबीन की, लेकिन उसका कुछ अतापता नहीं चल सका था। परिवारजन बेटे के अपहरण की आशंका व्यक्त कर रहे थे। वहीं सोमवार की सुबह युवक का शव नदी में उतरता मिला। गोताखोरों कि सूचना पर पहुंचे परिवारजन ने शव की शिनाख्त की।

कोतवाली नगर के सिरवारा निवासी दवा व्यवसायी अर्जुन सिंह का पुत्र प्रतीक बीते बुधवार को किसी बात से नाराज होकर घर से निकला था। देर रात उसकी बाइक शहर के गोला घाट पुल से बरामद हुई। पुलिस और परिवारजन द्वारा गोमती नदी में छलांग लगाने की आशंका व्यक्त की। कोतवाली पुलिस ने गोताखोरों की मदद से उसकी तलाश की, लेकिन कुछ पता नहीं चल सका।

शनिवार को पिता का सोशल मीडिया पर एक वीडियो वायरल हुआ, जिसमें अपहरण की आशंका जताई गई। हालांकि पुलिस को कोई तहरीर नहीं दी गई और न ही कोई फोन कॉल आया। सोमवार की भोर में एक शव उतारने की सूचना मिली। पुलिस ने मौके पर पहुंच शव को बाहर निकलवाया। मृतक के जेब से मिले आधार कार्ड व परिवारजन द्वारा शिनाख्त कराई। तो उसकी पहचान प्रतीक के रूप में हुई है। कोतवाल भूपेंद्र सिंह ने बताया कि शव झाड़ियों में फंसा था। फिलहाल पोस्टमार्टम कराया जा रहा है। 

डाउनलोड करें जागरण एप और न्यूज़ जगत की सभी खबरों के साथ पायें जॉब अलर्ट, जोक्स, शायरी, रेडियो और अन्य सर्विस