लखनऊ, राज्य ब्यूरो। उत्‍तर प्रदेश के मुख्‍यमंत्री कार्यालय के ट्विटर अकाउंट पर हमले के बाद अब हैकर्स की नजर सच‍िवालय की जानकार‍ियां चुराने पर है। हैकर्स से इन्‍हें बचाने के ल‍िए सचिवालय कर्मियों को इंटरनेट मीड‍िया का प्रयोग सावधानी से करने के न‍िर्देश जारी क‍िए गए हैं।

एसएमएस या फिर इंटरनेट मीडिया के माध्यम से लुभावने आफर, छूट व रोमांचक जानकारी देने के लिए भेजे गए ल‍िंक को खोलते समय पूरी सावधानी बरतें यह आपकी डिवाइस (कंप्यूटर, लैपटाप व मोबाइल) को नुकसान पहुंचा सकते हैं। सचिवालय कर्मियों को साइबर अटैक से बचने के लिए महत्वपूर्ण निर्देश दिए गए हैं। कार्यालय में बैठकर तरह-तरह की वेबसाइट खोलने में हुई चूक के कुछ मामले पहले सामने आ चुके हैं। हैकर सरकार की वेबसाइट भी हैक कर चुके हैं। ऐसे में सचिवालय कर्मियों को सचेत किया गया है।

सचिवालय प्रशासन विभाग के संयुक्त सचिव अजय कुमार पांडेय की ओर से यह निर्देश जारी कर दिए गए हैं। सचिवालय कर्मियों को सलाह दी गई है कि वह अपना पासवर्ड बड़े व छोटे अक्षरों, संख्या व विशेष वर्णों का प्रयोग कर जटिल पासवर्ड बनाएं और इसे कभी साझा न करें। हर 45 दिन में पासवर्ड बदल दें। विभिन्न एप, वेबसाइट अपने महत्वपूर्ण डाटा को हमेशा आफलाइन बैकअप तैयार करें। इन्हें पेन ड्राइव पर सुरक्षित करें। प्र‍िंटर पर इंटरनेट के प्रयोग को अनुमति न दें। हमेशा अधिकृत व लाइसेंस प्राप्त साफ्टवेयर का ही प्रयोग करें। कार्यालय छोड़ते समय कंप्यूटर व प्र‍िंटर ढंग से बंद करें। अपनी सीट से इधर-उधर हों तो कंप्यूटर को पासवर्ड से लाक रखें या फिर उसे बंद कर दें। साझा प्र‍िंटर के लिए यूनिक पास कोड सेट करें।

गूगल के अधिकारिक एप स्टोर एंड्राइड व एप्पल के आइओएस से ही एप डाउनलोड करें। विभिन्न सेवाओं, वेबसाइट व एप के प्रयोग के लिए एक ही पासवर्ड का प्रयोग न करें। किसी भी गैर सरकारी क्लाउड सेवा जैसे गूगल ड्राइव या ड्राप बाक्स में किसी आंतरिक व गोपनीय सरकारी डाटा को सेव न करें। किसी भी अज्ञात व्यक्ति द्वारा भेजे गए ईमेल में दिए गए ल‍िंक को न खोलें। सिस्टम पासवर्ड, प्र‍िंटर पासकोड या वाईफाई का पासवर्ड किसी बाहरी व्यक्ति से साझा न करें। फिलहाल साइबर अटैक से बचने के लिए सचिवालय कर्मियों को इस तरह की कई महत्वपूर्ण सलाह दी गई हैं।

बता दें क‍ि कुछ दनि पूर्व उत्तर प्रदेश के मुख्यमंत्री कार्यालय का ट्विटर अकाउंट (@CMOfficeUP) साइबर अपराधियों ने हैक कर लिया था।हैकर ने सीएमओ के ट्विटर हैंडल की डीपी और बैकग्राउंड वाली तस्वीर बदलने के साथ ही सैकड़ों यूजर्स को टैग करके कई ट्वीट भी कर दिए थे। करीब 40 मिनट तक इस हैंडल पर हैकरों का कब्जा रहा था। हैकर्स ने इस दौरान यूपी सीएमओ के ट्विटर हैंडल से करीब 30 से ज्यादा प्रमोशनल ट्वीट किए थे। उन्होंने खाते की बायो और प्रोफाइल फोटो भी बदल डाली थी।

Edited By: Prabhapunj Mishra