लखनऊ, [जितेंद्र उपाध्याय]। संयुक्त प्रवेश परीक्षा परिषद की ओर से पहली बार सभी ट्रेडों की आनलाइन परीक्षा कराई गई और 18 जुलाई को परिणाम भी घोषित कर दिया गया। परीक्षा और परिणाम तो जल्दी निकल गया, लेकिन प्रवेश पूर्व काउंसिलिंग शुरू नहीं हो सकी है। 15 अगस्त से शुरुआत होने के निर्देश के बावजूद अभी तक काउंसिलिंग शुरू नहीं हुई है। पाैने दो लाख विद्यार्थी काउंसिलिंग का इंतजार कर रहे हैं।

हालांकि, सूत्रों के मुताबिक सितंबर पहले सप्ताह से काउंसिलिंग शुरू करने की तैयारी चल रही है। काउंसिलिंग की जानकारी अभ्यर्थियों को आनलाइन संयुक्त प्रवेश परीक्षा परिषद की वेबसाइट jeecup.nic.in से होगी। काउंसिलिंग शुरू होने को लेकर अभ्यर्थी वेबसाइट खगाल रहे हैं, लेकिन कोई जानकारी नहीं है। 

सीटों का आवंटन भी अधूराः प्राविधिक शिक्षा परिषद की ओर से निजी पालीटेक्निक संस्थानों में सीटों का आवंटन नहीं हो पाया जिसकी वजह भी काउंसिलिंग में लेट होना है। तकनीकी शिक्षा परिषद की ओर से पालीटेक्निक की सीटें बढ़ाए जाने को लेकर भी मंथन किया जा रहा है। संयुक्त प्रवेश परीक्षा परिषद के प्रभारी सचिव राम रतन ने बताया कि काउंसिलिंग में देरी जरूर हो रही है, लेकिन प्रक्रिया चल रही है। सितंबर के पहले सप्ताह से काउंसिलिंग शुरू हो जाएगी। 

मध्यम श्रेणी के विद्यार्थियों की पसंद है पालीटेक्निकः संयुक्त प्रवेश परीक्षा परिषद की ओर से पालीटेक्निक प्रवेश को लेकर मध्यम वर्ग के विद्यार्थियों में अधिक उत्साह रहता है। हाईस्कूल के आधार पर प्रवेश परीक्षा होती है और कम खर्च में तीन साल में डिप्लोमा पूरा हो जाता है। जूनियर इंजीनियर के पद पर सरकारी व गैर सरकारी संस्थानों में नौकरी के अवसर मिलते हैं। राजकीय और सहायता प्राप्त संस्थानों में प्रवेश के लिए तो मारामारी रहती है। उच्च मेरिट वाले विद्यार्थियों को प्रवेश का अवसर मिलता है। 

सीटें भरने की बढ़ेगी चुनौतीः हाईस्कूल पास करने के बाद प्रवेश लेने वाले अभ्यर्थी काउंसिलिंग में देरी की वजह से इंटर में प्रवेश लेने लगे हैं। ऐसे में काउंसिलिंग में देरी हुई तो सीटों को भरने की चुनौती भी संस्थानों के सामने होगी। 

इन बातों का रखें ध्यान

  • उपरोक्त तीनों चरणों में पंजीकरण कराने वाले अभ्यर्थी केवल पंजीकरण के चरण में ही विकल्प भर सकेंगे।
  • प्रथम, द्वितीय एवं तृतीय चरण में डाक्यूमेन्ट वेरीफिकेशन प्रदेश के सभी जनपदों में बने सहायता केन्द्रों पर किया जायेगा।
  • प्रथम तीन चरण कवेल उत्तर प्रदेश राज्य के संयुक्त प्रवेश परीक्षा में उत्तीर्ण अभ्यर्थियों की काउन्सिलिंग तथा प्रवेश के लिए है।

पालीटेक्निक पर एक नजर

  • सरकारी संस्थान-154
  • सहायता प्राप्त संस्थान-19
  • प्राइवेट संंस्थान-1127
  • ए ग्रुप-1,12442
  • बी से के ग्रुप-7,085
  • फॉर्मेसी-1,5153

Edited By: Vikas Mishra