लखनऊ, जेएनएन। डोमेस्टिक फ्लाइट से आने वाले यूपी के निवासियों को होम क्वारंटाइन में जाना होगा। अगर कोई सिर्फ एक-दो दिन के लिए आ रहा होगा तो उसे अपने रिटर्न टिकट के बारे में पूरी जानकारी देनी होगी। यात्री को बताना होगा कि वह कहां का रहने वाला है और कहां-कहां जाने वाला है ताकि स्वास्थ्य विभाग की सर्विलांस टीम की निगरानी में ही वह रहे। जल्द राज्य सरकार इसके लिए अलग विस्तृत प्रोटोकाल जारी करेगी।

प्रमुख सचिव स्वास्थ्य अमित मोहन प्रसाद ने बताया कि 25 मई से घरेलू उड़ान शुरू हो रही हैं। इसका प्रोटोकाल नागरिक उड्डयन मंत्रालय जारी कर चुका है। फिलहाल एयरपोर्ट से लेकर हवाई यात्रा करने वाले व्यक्ति पर पूरी निगरानी की जाएगी और कोरोना का संक्रमण न फैले इसके लिए उसे भी एहतियात बरतना होगा। उन्होंने बताया कि अभी तक प्रदेश में आए करीब 20 लाख प्रवासी श्रमिकों में से 7.44 लाख का सर्वे आशा वर्कर द्वारा किया जा चुका है। 844 लोगों में लक्षण पाए जाने के बाद उन्हें फैसलिटी क्वारंटाइन में भेजा गया है। अभी तक 50708 के नमूने लैब में जांच के लिए भेजे जा चुके हैं और इसमें से 1423 प्रवासी श्रमिक कोरोना से संक्रमित पाए जा चुके हैं।

प्रमुख सचिव स्वास्थ्य अमित मोहन प्रसाद ने बताया कि अभी तक 2500 से अधिक अस्पतालों में इमरजेंसी सेवाएं शुरू कर दी गई हैं और बच्चों के टीकाकरण का काम भी तेजी से किया जा रहा है। वहीं एनएसएस, एनसीसी और नेहरू युवा केंद्र के स्वयंसेवकों को कोविड वालेंटियर फोर्स में शामिल किया जाएगा। यह लोग स्वैच्छिक सेवा करेंगे और इसके लिए संस्था अपना पंजीकरण करवाएगी। बीआरडी गोरखपुर में नई टेस्टिंग लैब बनना शुरू गोरखपुर के बीआरडी मेडिकल कॉलेज में कोरोना वायरस की जांच के लिए नई लैब बनने का काम शुरू हो गया। इसके लिए एक निजी कंपनी ने सीएसआर के तहत दो करोड़ रुपये दिए हैं। फिलहाल अब प्रदेश में कोरोना की जांच के लिए 28 लैब हो जाएंगी। इसे जल्द पूरा किया जाएगा।

शॉर्ट मे जानें सभी बड़ी खबरें और पायें ई-पेपर,ऑडियो न्यूज़,और अन्य सर्विस, डाउनलोड जागरण ऐप

budget2021