लखनऊ, जेएनएन। Coronavirus Effect : कोरोना वायरस के प्रकोप को देखते हुए उत्तर प्रदेश की योगी सरकार इस बार भौतिक सत्यापन के बगैर वृद्धावस्था पेंशन बांटेगी। यह पेंशन अगले माह यानी अप्रैल में दो माह की एक साथ मिलेगी। प्रदेश सरकार के इस फैसले का लाभ सूबे के करीब 47 लाख बुजुर्गों को होगा।

वृद्धावस्था पेंशन 60 वर्ष या उससे अधिक उम्र के गरीब बुजुर्गों को दी जाती है। योजना का लाभ उन्हें मिलता है जिनकी आय ग्रामीण क्षेत्रों में 46080 व शहरी क्षेत्रों में 56460 रुपये वार्षिक तक होती है। इसके तहत 500 रुपये महीना दिया जाता है। यह पेंशन तीन-तीन महीने की एक साथ यानी साल में चार किस्तों में दी जाती है। कोरोना वायरस के बढ़ते प्रभाव को देखते हुए सरकार ने पूरे देश को लॉकडाउन किया है। इससे रोज कमाने-खाने वालों व खासकर गरीबों को सबसे ज्यादा परेशानी हो रही है।

ऐसे में प्रदेश की योगी सरकार ने लोगों की मदद के लिए कई तरह की योजनाएं भी बनाई हैं। दिहाड़ी मजदूरों के खाते में सरकार कैश ट्रांसफर कर रही है। वहीं, विभिन्न तरह की सरकारी पेंशन पाने वालों को सरकार एडवांस भी देने जा रही है। इसी के तहत सरकार ने समाज कल्याण विभाग द्वारा संचालित वृद्धावस्था पेंशन अप्रैल माह में देने का निर्णय किया है।

यूं तो हर साल अप्रैल व मई महीने में बुजुर्गों का भौतिक सत्यापन कराया जाता है। इसके बाद जून माह में अप्रैल, मई व जून की एक साथ पेंशन दी जाती है। समाज कल्याण निदेशक बाल कृष्ण त्रिपाठी ने बताया कि इस बार सत्यापन का काम अप्रैल में नहीं हो पाएगा। इसलिए अप्रैल माह में करीब 47 लाख बुजुर्गों को दो-दो माह की पेंशन यानी एक-एक हजार रुपये खाते में ट्रांसफर किए जाएंगे।

Posted By: Umesh Tiwari

डाउनलोड करें जागरण एप और न्यूज़ जगत की सभी खबरों के साथ पायें जॉब अलर्ट, जोक्स, शायरी, रेडियो और अन्य सर्विस