लखनऊ [राज्य ब्यूरो]। उत्तर प्रदेश में पुलिसकर्मियों में तेजी से बढ़ रहे कोरोना संक्रमण ने अधिकारियों को आपात सेवाएं सुचारु रखने के लिए नए सिरे से सोचने पर मजबूर कर दिया है। पुलिस भी अपना बैकअप प्लान तैयार कर रही है। खासकर 112 मुख्यालय में संक्रमण के खतरे की आशंका के चलते वर्क फ्रॉम होम की सुविधा बढ़ाकर आने वाली चुनौतियों से निपटने की तैयारी चल रही है। 112 मुख्यालय ने कॉल टेकर के लिए 200 लैपटॉप का प्रस्ताव शासन को भेजा है। गृह विभाग से हरी झंडी मिलने के बाद वित्त विभाग की अनुमति का इंतजार है।

उत्तर प्रदेश में अब तक कानपुर, वाराणसी, बिजनौर, मुरादाबाद, आगरा व फीरोजाबाद में कोरोना पॉजिटिव पुलिसकर्मियों की संख्या 49 हो गई है। दरअसल, इनमें आगरा में 112 पीआरवी पर तैनात हेड कांस्टेबल भी है। हेड कांस्टेबल के कोरोना पॉजिटिव पाए जाने के बाद 112 के कई पुलिसकर्मियों को क्वारंटाइन भी किया गया। 112 मुख्यालय में करीब 128 कॉल टेकर को वर्क फ्रॉम होम की सुविधा दी गई है। 200 लैपटॉप मिलने पर इतनी ही कॉल टेकर और घर से काम कर सकेंगी। कुल करीब 675 कॉल टेकर में 328 कॉल टेकर के घर से काम करने की स्थिति में आपात सेवा को आसानी से सुचारु रखा जा सकेगा।

एडीजी 112 असीम अरुण का कहना है कि वर्तमान परिस्थितियों को देखते हुए 112 मुख्यालय में कॉल टेकर व पुलिसकर्मियों को अतिरिक्त सतर्कता बरतने के निर्देश दिए गए हैं। कॉल टेकर को ग्रुप में बांटकर अलग-अलग छह हॉल में उनके बैठने की व्यवस्था की गई है। दूसरी ओर डीजीपी हितेश चंद्र अवस्थी ने भी पुलिसकर्मियों को अपनी सुरक्षा के कड़े निर्देश देने के साथ ही पर्यवेक्षण अधिकारियों की जिम्मेदारी भी तय की है।

Posted By: Umesh Tiwari

डाउनलोड करें जागरण एप और न्यूज़ जगत की सभी खबरों के साथ पायें जॉब अलर्ट, जोक्स, शायरी, रेडियो और अन्य सर्विस