लखनऊ, जेएनएन। Coronavirus : उत्तर प्रदेश में कोरोना संकट के बीच लागू लॉकडाउन के दौरान सोशल मीडिया के जरिये माहौल बिगाड़ने वालों पर भी पुलिस की कड़ी नजर है। डीजीपी हितेश चंद्र अवस्थी ने सोशल मीडिया सेल को लगातार निगरानी किए जाने व आरोपितों पर कड़ी वैधानिक कार्रवाई का निर्देश दिया है।

16 मार्च से 10 अप्रैल के बीच पुलिस ने सोशल मीडिया पर आपत्तिजनक पोस्ट के विरुद्ध 360 एफआईआर दर्ज की हैं। इनमें 91 मुकदमे भ्रामक सूचना व अफवाह फैलाने वालों के विरुद्ध दर्ज किए गए हैं। इसके अलावा 198 एफआइआर सांप्रदायिक सदभाव बिगाड़ने का प्रयास करने वाली पोस्ट व 71 मुकदमे अभद्र टिप्पणियों के मामले में दर्ज की गई है।

उत्तर प्रदेश में लॉकडाउन के दौरान डीजीपी मुख्यालय स्तर पर सोशल मीडिया सेल 24 घंटे काम कर रही है। लॉकडाउन के दौरान कोरोना से जुड़े 2843 ट्वीट सोशल मीडिया सेल को मिले हैं। इन ट्वीट में 180 चिकित्सीय सहायता व दवा उपलब्ध करवाने से जुड़े हैं। भोजन उपलब्ध कराने के 309, लॉकडाउन के उल्लंघन के 1019 व कुछ अन्य मामलो से जुड़े ट्वीट पुलिस को मिले हैं। सभी में कार्रवाई की गई है।

लॉकडाउन में कालाबाजारी करने वाले 163 गिरफ्तार

अपर मुख्य सचिव गृह अवनीश कुमार अवस्थी के अनुसार लॉकडाउन अवधि में पुलिस ने अब तक धारा 188 के तहत 14,342 एफआईआर दर्ज की हैं, जबकि 35,569 आरोपितों को गिरफ्तार किया गया है। इसके अलावा सघन चेकिंग के दौरान 20,898 वाहन सीज किये गए हैं। उन्होंने बताया कि कालाबाजारी व जमाखोरी करने वालों के खिलाफ 368 एफआइआर दर्ज की गई हैं। पुलिस ने इन मामलों में 464 आरोपितों में से 163 को गिरफ्तार किया है। फेक न्यूज के तहत अब तक 155 मामलों की जांच साइबर सेल को सौंपी गई है।

Posted By: Umesh Tiwari

डाउनलोड करें जागरण एप और न्यूज़ जगत की सभी खबरों के साथ पायें जॉब अलर्ट, जोक्स, शायरी, रेडियो और अन्य सर्विस