लखनऊ [राज्य ब्यूरो]। उत्तर प्रदेश में 4.83 करोड़ लोग ऐसे हैं, जिन्होंने अभी तक कोरोना से बचाव के लिए टीका नहीं लगवाया है। प्रदेश में 18 वर्ष से अधिक उम्र के कुल 14.74 करोड़ लोगों को वैक्सीन लगाई जानी है। अब तक 9.90 करोड़ लोगों ने टीके की पहली और 3.37 करोड़ लोगों ने दोनों डोज लगवा ली है। फिलहाल अब इस महीने टीकाकरण में तेजी लाने के प्रयास किए जा रहे हैं। क्लस्टर माडल के दूसरे चरण में टीमें गांव-गांव जाकर वैक्सीन लगा रही हैं। अब टीका लगाने के लिए घर-घर आशा वर्कर दस्तक देंगी।

उत्तर प्रदेश में ऐसे गांव व मोहल्ले जहां सभी लोगों ने वैक्सीन की पहली डोज लगवा ली है, वहां दूसरी डोज प्राथमिकता पर लगाई जाएगी। वहीं ऐसे गांव व मोहल्ले जहां अभी तक सभी लोगों ने वैक्सीन की पहली ही डोज नहीं लगवाई है, वहां सघन टीकाकरण अभियान चलाकर लोगों को पहली डोज लगाई जाएगी। हर जिले में एक टीकाकरण केंद्र पर सुबह आठ बजे से रात 10 बजे तक वैक्सीन लगाने की सुविधा भी शुरू हो गई है।

ज्यादातर जिलों में यह विशेष टीकाकरण केंद्र जिला अस्पताल में बनाए गए हैं। कामकाजी लोग आसानी से वैक्सीन लगवा सकें, इसके पुख्ता इंतजाम किए जा रहे हैं। अब तक 6.99 करोड़ पुरुष और 6.27 करोड़ महिलाओं ने वैक्सीन लगवाई है। राज्य टीकाकरण अधिकारी डा. अजय घई के मुताबिक प्रदेश में वैक्सीन की पर्याप्त उपलब्धता है। लोग संक्रमण से बचाव के लिए वैक्सीन जरूर लगवाएं। जिन्होंने टीके की पहली डोज लगवा ली है, वह दूसरी डोज लगवाकर कोरोना से बचाव के लिए सुरक्षा चक्र को मजबूत करें।

बुजुर्गों को वैक्सीन की दोनों डोज लगाने पर जोर : यूपी में कोरोना से बचाव के लिए चलाए जा रहे टीकाकरण अभियान में अब तक 13 करोड़ से ज्यादा टीके लगाए जा चुके हैं। कोरोना संक्रमण से 60 साल से अधिक उम्र वाले लोगों में ज्यादा जटिलताएं देखने को मिली हैं। ऐसे में बुजुर्गों को वैक्सीन की दोनों डोज लगाने पर जोर दिया जाएगा। इस आयु वर्ग के 1.87 करोड़ लोगों को टीका लगाया जाना है। सभी बुजुर्गों ने वैक्सीन की पहली डोज लगवा ली है और सात लाख लोगों ने दूसरा टीका भी लगवा लिया है।

Edited By: Umesh Tiwari