Move to Jagran APP

...तो अब यहां होगा कांग्रेस का फोकस, कई जिलाध्यक्षों की छुट्टी तय! BJP को टक्कर देने के लिए नई रणनीति तैयार

लोकसभा चुनाव में बेहतर परिणाम आने के बाद कांग्रेस ने आने वाले विधानसभा चुनाव से पहले संगठन को और मजबूत बनाने की रणनीति बनाई है। प्रदेश प्रभारी अविनाश पांडेय व प्रदेश अध्यक्ष अजय राय विभिन्न जिलों का दौरा करेंगे और इसकी रूपरेखा तैयार करेंगे। इसके साथ ही निष्क्रिय पदाधिकारियों को चिन्हित करने का काम भी शुरू किया गया है ।

By Alok Mishra Edited By: Aysha Sheikh Fri, 14 Jun 2024 07:56 PM (IST)
...तो अब यहां होगा कांग्रेस का फोकस, कई जिलाध्यक्षों की छुट्टी तय! BJP को टक्कर देने के लिए रणनीति तैयार

राज्य ब्यूरो, लखनऊ। लोकसभा चुनाव में बेहतर परिणाम आने के बाद कांग्रेस ने आने वाले विधानसभा चुनाव से पहले संगठन को और मजबूत बनाने की रणनीति बनाई है। प्रदेश प्रभारी अविनाश पांडेय व प्रदेश अध्यक्ष अजय राय विभिन्न जिलों का दौरा करेंगे और इसकी रूपरेखा तैयार करेंगे। इसके साथ ही निष्क्रिय पदाधिकारियों को चिन्हित करने का काम भी शुरू किया गया है। माना जा रहा है कि कई जिलाध्यक्षों की छुट्टी भी हो सकती है। इसके साथ ही प्रदेश कार्यकारिणी का विस्तार भी हो सकता है।

कई जिलों में सामने आई कमियां

लोकसभा चुनाव के दाैरान प्रदेश प्रभारी अविनाश पांडेय ने सभी लोकसभा क्षेत्रों में विपक्षी गठबंधन आइएनडीआइए के सहयोगी दलों के साथ समन्वय बैठकें की थीं। इस दौरान कई जिलों में कमियां भी सामने आई थीं। कांग्रेस ने सभी जिलों में बूथ स्तर पर अपने एजेंटों की नियुक्ति की प्रक्रिया भी शुरू की थी। इसके माध्यम से पार्टी के सक्रिय कार्यकर्ताओं को जोड़ने के साथ ही पार्टी की गतिविधियाें को बढ़ाने का प्रयास किया जा रहा है।

पार्टी सूत्रों का कहना है कि प्रदेश प्रभारी के निर्देश पर जिला स्तर पर निष्क्रिय पदाधिकारियों की सूची तैयार की जा रही है। प्रदेश प्रभारी व प्रदेश अध्यक्ष जल्द वरिष्ठ पदाधिकारियों के साथ बैठक भी करेंगे। कांग्रेस ने नवंबर 2023 में नई प्रदेश कार्यकारिणी का गठन भी किया था। जिसमें 16 उपाध्यक्ष समेत 130 पदाधिकारी शामिल थे।

प्रदेश कार्यकारिणी के विस्तार की भी तैयारी चल रही है। लोकसभा चुनाव के दौरान बेहतर काम करने वाले कुछ नेताओं को प्रदेश कार्यकारिणी में स्थान मिल सकता है। सभी जिलों में नए कार्यकर्ताओं को जोड़ने के निर्देश भी दिए गए हैं। विभिन्न प्रकोष्ठों की भी समीक्षा की जाएगी।