लखनऊ (जेएनएन)। उत्तर प्रदेश के मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ का दावा है कि उत्तर प्रदेश में जनमानस अब अपने को सुरक्षित महसूस कर रहा है। योगी आज ने अपनी सरकार की छह महीने की उपलब्धियां गिनाई और अखिलेश यादव पर निशाना साधा। उन्होंने कहा कि अखिलेश ट्वीट कर किसानों का मजाक न उड़ाएं अन्यथा वह खुद हंसी का पात्र न बन जाएं। योगी ने कहा कि बुंदेलखंड एक्सप्रेसवे का डीपीआर तैयार किया जा रहा है। केंद्र की अनुमति मिली तो सरकार खतौनी को आधार से लिंक करेगी। पहली अक्टूबर से सड़कों को गड्ढामुक्त करने का अभियान शुरू होगा ।

यह भी पढ़ेंरिपोर्टः गुमनामी बाबा से जुड़ी तीन दशक पुरानी पहेली सुलझने की उम्मीद

लोक भवन में मीडिया को संबोधित करते हुए मुख्यमंत्री ने कहा कि भारतीय जनता पार्टी की सरकार बनने के बाद प्रदेश में सुरक्षा का माहौल बेहतर हो गया है। अब यहां पर जनमानस अपने को सुरक्षित महसूस कर रहा है। हमारे कार्यकाल में पुलिस का मनोबल बढ़ा और बदमाशों पर शिकंजा कसा गया। पुलिस की उनसे आमने-सामने मुठभेड़ होने लगी। दर्जन भर से अधिक बदमाश मारे गए हैं और दो दर्जन से अधिक जेल में बंद हैं। 

मुख्यमंत्री ने कहा कि प्रदेश में पुलिस का मनोबल बढ़ाना चुनौती थी। हमने इसको स्वीकार किया और आज यहां पुलिस फ्रंट पर आकर काम कर रही है। उन्होंने कहा कि भाजपा की सरकार सरकार बनने के बाद प्रदेश में निवेश का माहौल बना है। प्रदेश में निवेश फ्रेंडली माहौल नही था। उत्तर प्रदेश में बीते 15 वर्ष से अराजकता थी। छह महीने में 431 से अधिक मुठभेड़ हुईं जिसमें 17 अपराधी मार गिराए गए। इसके साथ ही 69 अपराधियों की संपत्ति जब्त की गईं।

 

उन्होंने कहा कि आम जनमानस आज सुरक्षित महसूस कर रहा है। यहां पर हमारे छह महीने के कार्यकाल में एक भी दंगा नहीं हुआ है। प्रचंड बहुमत के अनुरूप हमारी कार्य पद्धति हो ऐसी कार्यप्रणाली की जरूरत थी। हमने उसको करके दिखाया है। हमने नैतिक जिम्मेदारी के साथ छह माह की सरकार का लेखा जोखा पेश किया है। उन्होंने कहा कि हमने अभी तक 33 लाख अपात्र राशन कार्डों को निरस्त कर पात्रों को राशन कार्ड दिया। इसके साथ ही 5000 से ज्यादा क्रय केंद्र खोले हैं। हमने 33 लाख अपात्र राशन कार्डों को निरस्त कर पात्रों को राशन कार्ड दिया। 

योगी आदित्यनाथ ने कहा कि प्रदेश में बीते 15 वर्ष में नौकरी देने के नाम पर जमकर धांधली होती थी। राजकीय नौकरियों में चयन में भेदभाव होता था। पात्र लोग वंचित रहते थे जबकि भाई-भतीजावाद के कारण अपात्रों को नौकरी मिल जाती थी। हमने इसे रोकने में लिए साक्षात्कार समाप्त किया। 

इस वर्ष 10 लाख नौजवानों को रोजगार-स्वरोजगार से जोड़ा जायेगा। युवाओं को प्रदेश में नौकरी के लिए काम किया जा रहा है। रोजगार के लिए छह महीने में पुलिस भर्ती प्रक्रिया बढ़ाई गई है। प्रदेश में इससे पहले तक नौकरियों में धांधली और अराजकता का माहौल था। हम आने वाले समय में 1.5 लाख पुलिस विभाग में भर्तियां करेंगे।

 

उन्होंने कहा कि हम प्रदेश में एक अक्टूबर से सचिवालयों को ई-ऑफिस से जोडऩे जा रहे हैं। जो आम जन के लिए महत्वपूर्ण उपलब्धि होगी। हमने हर किसान को ट्यूबवेल कनेक्शन देने का ऐलान किया है। हमने दस हजार सोलर पंप दिया है। प्रदेश में गन्ना किसानों का 95 फीसदी से अधिक भुगतान हो चुका है। प्रदेश में किसानों के लिए आलू का पहली बार समर्थन मूल्य जारी हुआ है। किसानों के लिए सरकार ने काफी काम किया है, किसानों का विश्वास जाग्रत किया है। हमारी सरकार 22 करोड़ जनता की सेवा के लिए प्रतिबद्ध है।

यह भी पढ़ें: सपा शासन काल में हुई भर्तियों की जांच करा रही योगी सरकार

मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ ने कहा कि प्रदेश के विकास के लिए एयर कनेक्टिविटी पर काम किया जा रहा है। पूर्वांचल एक्सप्रेस वे के निर्माण लिए काम चल रहा है। दवा खरीद की केंद्रीय व्यवस्था की गई है, जिससे सरकारी अस्पतालों में होने वाली दवा खरीद में लूटपाट दूर होगी।

यह भी पढ़ें: ब्रज क्षेत्र को तीर्थ के रूप में बढ़ावा दिया जाएगा: सीएम योगी

मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ ने कहा कि पूर्वी यूपी के 38 जिलों में 92 लाख बच्चों को इन्सेफेलाइटिस की वैक्सीन दी गई है। स्कूली बच्चों को जूते मोज़े दिए गए हैं और आने वाली सर्दियों में स्कूली बच्चों को स्वेटर भी दिए जायेंगे।

यह भी पढ़ें: बसपा में अब सतीश चंद्र मिश्रा से आगे मुखिया मायावती के भाई व भतीजा

हम आने वाले समय में 1.5 लाख पुलिस विभाग में भर्तियां करेंगे। हमने 16 लाख परिवारों को मुफ्त बिजली कनेक्शन दिया, जिसमें 6 लाख गरीबी रेखा से नीचे वाले परिवार हैं। 6 महीनों में यूपी देश मे सबसे अधिक राजस्व वृद्धि वाला राज्य बना है। उनके साथ प्रेस कांफ्रेंस के दौरान उप मुख्यमंत्री डॉ. दिनेश शर्मा तथा केशव प्रसाद मौर्य भी थे। 

 

Posted By: Dharmendra Pandey

अब खबरों के साथ पायें जॉब अलर्ट, जोक्स, शायरी, रेडियो और अन्य सर्विस, डाउनलोड करें जागरण एप