लखनऊ [राज्य ब्यूरो]। यातायात नियमों का सख्ती से पालन कराने के निर्देश के साथ मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ ने व्यापारिक प्रतिष्ठानों की सुरक्षा पर भी जोर दिया है। पुलिस-प्रशासन के अधिकारियों से कहा है कि व्यापारिक संगठनों से बात कर लें। एक सप्ताह के अंदर सभी प्रतिष्ठानों पर सीसीटीवी कैमरे लग जाएं। पुलिस के सहयोग के लिए निजी सुरक्षा कर्मियों की भी तैनाती की जाए।

सड़क हादसों को कम से कम करने के लिए मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ ने सड़क सुरक्षा का विशेष अभियान गुरुवार से शुरू कराया है। विभिन्न संबंधित विभागों को इस अभियान में लगाया गया है। इसमें चरणवार जागरूकता के कार्यक्रम चलेंगे और उसके बाद यातायात नियमों का उल्लंघन करने वालों के खिलाफ कार्रवाई भी की जाएगी। अभियान की रूपरेखा सीएम योगी ने प्रदेशभर के अधिकारियों को वीडियो कांफ्रेंसिंग कर बिंदुवार समझा दी है। अब उन्होंने निर्देश दिया है कि स्थानीय प्रशासन और पुलिस के अधिकारी व्यापारिक संगठनों से बातचीत करें। अधिकाधिक प्रतिष्ठानों पर सीसीटीवी कैमरे भी लगाए जाएं।

सीएम योगी ने कहा है कि पुलिस के सहयोग के लिए व्यापारियों से सामंजस्य बनाकर निजी सुरक्षा कर्मियों की तैनाती भी कराई जाए। यह काम एक सप्ताह में पूरा कराने का प्रयास करें। अभियान में इस बात पर भी जोर है कि सड़कें बिल्कुल अतिक्रमणमुक्त रहें। हर व्यापारिक प्रतिष्ठान अपनी सीमा के भीतर से ही चले। सड़क पर कब्जा न करे। व्यापारी दुकान की सीमा से बाहर सामान न फैलाएं।

इसके अलावा सीएम की मंशा है कि गलत आचरण वाले व्यक्ति परिवहन सेवा में न रहें। निर्देशित किया है कि सिटी बस और सार्वजनिक परिवहन सेवाओं के चालकों व परिचालकों का पुलिस सत्यापन कराया जाए। दूषित, विकृत और आपराधिक मानसिकता के लोगों को सार्वजनिक परिवहन सेवाओं में न लगाया जाए।

चौराहों पर वसूली की शिकायत मिली तो सख्त होगी कार्रवाई : अपराध और भ्रष्टाचार के खिलाफ जीरो टालरेंस का संदेश सीएम योगी लगातार दे रहे हैं। ऐसे मामलों में आरोपित पुलिस और प्रशासन के कई अधिकारियों पर वह कार्रवाई भी कर चुके हैं। अब सड़क सुरक्षा अभियान की शुरुआत के साथ ही दो टूक चेतावनी दी है कि यातायात पुलिस और पीआरडी के जवान चौराहों पर सक्रिय रहें। यदि कहीं से अनैतिक वसूली की शिकायत मिली तो कठोरतम कार्रवाई तय है।

Edited By: Umesh Tiwari