लखनऊ, जेएनएन। हरियाणा के झज्जर जिले में शुक्रवार तड़के हुए हादसे में उत्तर प्रदेश की फिरोजाबाद के एक ही परिवार के सात सदस्यों सहित आठ लोगों की मौत हो गई। सुबह सात बजे हादसे की सूचना मिलते ही भाई-भतीजे और आसपास के रिश्तेदार घटनास्थल की ओर रवाना हो गए। हादसे से पूरा गांव दुख में डूब गया। यूपी के मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ ने सड़क दुर्घटना में लोगों की मृत्यु पर गहरा शोक व्यक्त किया है। उन्होंने अधिकारियों को हरियाणा सरकार के अफसरों से समन्वय कर मृतकों के पार्थिव शरीर को फिरोजाबाद लाने की व्यवस्था करने के निर्देश दिए हैं। मुख्यमंत्री ने दुर्घटना में घायल व्यक्तियों के उपचार की समुचित व्यवस्था कराए जाने के भी निर्देश दिए हैं।

उत्तर प्रदेश के फिरोजाबाद नगला अनूप निवासी शिवकुुमार शर्मा (60) किसान थे। बुधवार शाम शिवकुमार किराए की अर्टिगा कार से स्वजन संग जाहरवीर की जात करने गए थे। कार में पत्नी मुन्नी, पुत्र मनोज (26) बहू रूबी (24), पोती श्रुति (6 माह), बेटी खुशबू (22), विवाहित बेटी आरती (24), धेवती प्रियांशी (ढाई वर्ष) और बेटी सोनी का बेटा प्रियांशु (12) के अलावा गांव में रहने वाला बिहारी श्रमिक बबलू भी था। हादसे में शिवकुमार, मनोज, मुन्नी, रूबी, बंशिका, खुशबू, प्रियांशु और बबलू की मौत हो गई। हादसे में घायल आरती और उसकी बेटी प्रियांशी को बहादुरगढ़ अस्पताल में भर्ती कराया गया है। ड्राइवर मोनू सुरक्षित है।

शिवकुमार के चचेरे भाई मुकेश के बेटे कृष्णा के मोबाइल पर शुक्रवार सुबह सात बजे हरियाणा पुलिस के एक दारोगा का फोन आया। दारोगा ने हादसे की जानकारी दी। कृष्णा दौड़ा-दौड़ा ताऊ राजकुमार (शिवकुमार के छोटे भाई)के पास पहुंचा। राजकुमार को हक्का-बक्का रह गए। परिवार के सात लोगों सहित आठ मौतों की खबर ने पूरे गांव को झकझोर दिया। शिवकुमार के चचेरे भाई संजय और ग्रामीण घटनास्थल की ओर रवाना हो गए। खबर मिलने पर आसपास से रिश्तेदार भी चले गए।

हादसे की सूचना पर शुक्रवार दोपहर दो बजे एसडीएम सिरसागंज विवेक मिश्रा गांव पहुंचे। शिवकुमार के परिवार वालों को प्रशासन की ओर से यथासंभव मदद का भरोसा दिलाया है। राजकुमार ने बताया कि उनके भाई और भाभी कई बार जाहरवीर बाबा के दर्शन करने जा चुके थे। पहली बार पूरे परिवार के साथ गए। घर में कोई न रहने के कारण वो यहां रुक गए। शिवकुमार के चचेरे भाई की पत्नी का निधन पंद्रह दिन पहले हो गया था। सिरसागंज क्षेत्र के गांव गौंदई में ब्याही बड़ी बेटी आरती अपनी पुत्री के साथ उनकी तेरहवीं पर आई थी। छोटी बेटी सोनी बेटे प्रियांशु के साथ गाजीपुर से पहुंची थी।

शिवकुमार अपने चचेरे भाई मुकेश के बेटे कृष्णा (20) को भी ले जा रहे थे। मगर कार में जगह न होने के कारण कृष्णा नहीं गया। राजकुमार सिरसागंज में साबुन फैक्ट्री में काम करते हैं बड़े भाई के परिवार के साथ रहते हैं। हादसे के बाद बिलखते हुए कह रहे थे कि वो अभागा बच गया।

Edited By: Umesh Tiwari