मोदी सरकार - 2.0 के 100 दिन

जागरण संवाददाता, लखनऊ। बालागंज स्थित चरक हॉस्पिटल एंड रिसर्च सेंटर का कर्मचारी रामानुज फर्जी मेडिकल रिपोर्ट तैयार कर मरीजों की जिंदगी के साथ खिलवाड़ कर रहा था। वह दूसरे अस्पतालों में जाकर मरीजों का ब्लड सैंपल लेकर फर्जी रिपोर्ट भी वहीं पहुंचा देता था। डायल 100 के एएसपी की बेटी की फर्जी रिपोर्ट बनाने पर वह फंस गया।

एसओ ठाकुरगंज दीपक दुबे ने बताया कि एएसपी की तहरीर पर शनिवार दोपहर आरोपित कर्मचारी के खिलाफ जालसाजी समेत आइपीसी की अन्य धाराओं में एफआइआर दर्ज हुई है। उन्होंने बताया कि आरोपित कर्मचारी रामानुज को गिरफ्तार कर लिया गया है। अन्य कर्मचारियों व स्टाफ की संलिप्तता की जांच की जा रही है।

यूपी डायल 100 में तैनातवृंदावन योजना रायबरेली रोड निवासी एएसपी अजय प्रताप सिंह ने ठाकुरगंज थाने में तहरीर दी थी। इसमें उन्होंने कहा कि बाराबंकी के रामनगर निवासी रामानुज विश्वकर्मा पुत्र झगड़ू विश्वकर्मा बालागंज स्थित चरक हॉस्पिटल एंड रिसर्च सेंटर में लैब टेक्नीशियन के पद पर कार्यरत है। अजय प्रताप सिंह की बेटी साक्षी सिंह का इलाज एक निजी अस्पताल में चल रहा है। छह और सात फरवरी को वह साक्षी का ब्लड सैंपल ले गया था। इसके बाद आरोपित रामानुज चरक पैथालॉजी की रिपोर्ट दे गया। साक्षी की रिपोर्ट पर उसकी जगह किसी कुसुम नामक महिला का नाम अंकित था। चरक पैथालॉजी के कर्मचारी द्वारा इस कृत्य से यह स्पष्ट है कि वहां के और भी कर्मचारी इस फर्जीवाड़े गैंग में शामिल हो सकते हैं। बिना जांच किए फर्जीवाड़ा करके घर पर रिपोर्ट तैयार करके आरोपित कर्मचारी मरीजों की जिंदगी से खिलवाड़ कर रहे हैं।

प्रबंधक ने कर्मचारी को निकाला, थाने में दी तहरीर

मामले में चरक हॉस्पिटल के प्रबंधक ने भी ठाकुरगंज थाने में तहरीर दी है। इसमें कहा है कि उनका कर्मचारी रामानुज विश्वकर्मा चरक हॉस्पिटल के लेटर हेड पर अन्य अस्पतालों में भर्ती मरीजों की फर्जी रिपोर्ट अपने घर पर बनाकर देता था। मामला संज्ञान में आने के बाद कर्मचारी रामानुज को नौकरी से निकाल दिया गया है। प्रबंधक ने आरोपित कर्मचारी के खिलाफ एफआइआर दर्ज करने की मांग की है।

कई मरीजों के साथ कर चुका है खिलवाड़, पैसे खुद रखता था

गिरफ्तार कर्मचारी रामानुज ने पुलिस पूछताछ में कई मरीजों की मेडिकल रिपोर्ट घर पर बनाने की बात स्वीकार की है। एसओ ठाकुरगंज ने बताया कि आरोपित कर्मचारी मरीजों से रिपोर्ट के नाम पर ली गई धनराशि अपने पास ही रख लेता था।

Posted By: Jagran

अब खबरों के साथ पायें जॉब अलर्ट, जोक्स, शायरी, रेडियो और अन्य सर्विस, डाउनलोड करें जागरण एप