बाराबंकी, संवादसूत्र। रामसनेहीघाट सड़क हादसे के बाद नियमों की अनदेखी कर चल रही बसों पर कार्रवाई को लेकर परिवहन विभाग सक्रिय हो गया है। बिना परमिट या परमिट शर्ताें का उल्लंघन कर चलने वाली डग्गामार बसाें के खिलाफ निरंतर अभियान चलाकर कार्रवाई की जा रही है। एक सप्ताह का सघन चेकिंग अभियान बाराबंकी में अहमदपुर टोला प्लाजा के एक किलोमीटर के दायरे में शुरू किया गया है। इस अभियान की सीधे उप परिवहन आयुक्त निर्मल प्रसाद निगरानी करेंगे। उन्होंने बताया कि एक अगस्त से सात अगस्त तक टोल प्लाजा के आसपास 500 मीटर आगे व पीछे रहकर आने जाने वाले सभी बसों की गहनता से चेकिंग की जाएगी। बिना परमिट, परमिट शर्तों के विरुद्ध, क्षमता से अधिक सवारी, अधूरे कागजात और अनधिकृत रूप से संचालित अथवा जुर्माना की राशि न चुकता करने वाली बसों का नियमानुसार चालान अथवा बंद करने की कार्रवाई की जाएगी।

खींचे फोटो, बनाएं वीडियोः इस जांच के लिए यात्री कर अधिकारी उमाशंकर मिश्रा को नियुक्त किया गया है। यह निर्देश भी दिए गए हैं कि बसों के प्रपत्र चेक किए जाने के साथ ही बस के भीतर जाकर बस में लगी सीटों, स्लीपर के फोटो लें और वीडियो क्लिप भी बनाएं। किसी भी बस में विधि अनुसार सीट नही हैं या अनुमन्य सीमा से अधिक स्लीपर मिलते हैं या फिर बस में स्टूल-बेंच लगी पाई जाती हैं तो चालान करके ऐसी बसों को अनिवार्य रूप बंद किया जाए। इस पूरी कार्रवाई की रिपोर्ट प्रतिदिन वाट्सएप के जरिए आरटीओ, प्रवर्तन फैजाबाद व उप परिवहन आयुक्त को भेजना होगा।

क्षमता से अधिक सवारी भी थी हादसे की वजहः 27 जुलाई को हुए हादसे की एक वजह डबल डेकर बस पर क्षमता से अधिक सवारियों को होना भी सामने आई थी। इस बस पर 85 की क्षमता के सापेक्ष 135 सवारियां थीं।

Edited By: Vikas Mishra