लखनऊ, जेएनएन। नगर निगम सदन में रविवार को जलकल का बजट संशोधन के साथ पारित हो गया। मेयर संयुक्ता भाटिया ने पार्षदों की सहमति से बजट को मंजूरी दे दी है। हर वार्ड में दो-दो लाख से पेयजल-सीवर की मरम्मत की जाएगी। खास बात यह है कि जलकल के बजट में 12 .22 करोड़ खर्च की कटौती कर दी गई है  पहले 21 .84 करोड़ के खर्च का प्रस्ताव रखा गया था। वहींं जल संचयन के लिए दो करोड़ रुपये  का बजट की संस्‍तुति की गई है। सत्र के दौरान बीच-बीच में  गहमा-गहमी का माहौल भी रहा।  

जलमूल्‍य में कोई वृद्धि नहीं
बजट में  वार्ड में दो-दो लाख से होगी पेयजल-सीवर की मरम्मत। पार्षदों की संस्तुति पर पानी की लाइन की मरम्मत और जर्जर मैनहोल की हो सकेगी मरम्मत। पहली बार पार्षदों को यह अधिकार मिला है। जलमूल्य में कोई वृद्धि नहीं होगी। साथ ही  जलदोहन रोकने के लिए उपविधि बनाने का भी प्रस्‍ताव बनाया जाएगा। 

जलसंचयन के लिए खर्च होंगे दो करोड़ 
नगर निगम में वर्षा के जल संचयन का मुद्दा भी उठा। जिसमें आईपीएस अधिकारी महेंद्र मोदी ने वर्षा जल बचाने के तरीकों को बताया। जलसंचयन के लिए दो करोड़ रुपये  का बजट की संस्‍तुति की गई है। जलकल के बजट में 12.22 करोड़ खर्च की कटौती कर दी गई। पहले 21.84 करोड़ के खर्च का प्रस्ताव रखा गया था। 

27 -27 लाख में वार्ड का होगा विकास  
हर वार्ड में नगर निगम विकास निधि से विकास के कार्य कराने के लिए 27 -27 लाख की दो किश्त जारी। दो से पांच लाख तक स्वच्छता के लिए खर्च करने होंगे। बता दें कि पिछले रविवार को नगर निगम का बजट पास करते हुए हर वार्ड में विकास कराने के लिए हर वार्ड में 95 -95 लाख का बजट पास हुआ था। 

Posted By: Divyansh Rastogi

अब खबरों के साथ पायें जॉब अलर्ट, जोक्स, शायरी, रेडियो और अन्य सर्विस, डाउनलोड करें जागरण एप