लखनऊ, जेएनएन। बाबा साहब भीमराव आंबेडकर केंद्रीय विश्वविद्यालय में बीटेक छात्रों को अधूरा कोर्स पूरा कराने के बाद परीक्षा कराने की मांग करना महंगा पड़ गया। विभाग के निदेशक डॉ. कमान सिंह ने एक छात्र की न केवल पिटाई कर दी बल्कि गार्डों को बुलाकर अन्य छात्रों को विभाग से बाहर करा दिया। इससे नाराज छात्रों ने तोडफ़ोड़ शुरू कर दी। खिड़कियों के शीशे टूट गए। वहीं, घटना में एक छात्रा व तीन छात्र घायल हो गए। हंगामे के बाद एकजुट छात्र आंबेडकर भवन के सामने धरना देने लगे। कुलपति प्रो. एनएमपी वर्मा ने समझाने का प्रयास किया, लेकिन छात्र देर शाम तक कार्रवाई की मांग को लेकर धरने पर बैठे रहे। उधर, आरोपी निदेशक ने थप्पड़ मारने की घटना से इंकार किया है।

छात्रों का आरोप है कि कोर्स अधूरा होने की वजह से उन लोगों ने निदेशक प्रो. कमान सिंह से परीक्षा की तिथि बढ़वाने की मांग की तो उन्होंने इनकार कर दिया। ऐसे में एक छात्र ने सहपाठियों को कुलपति से बात करने की सलाह दी। आरोप है कि इस बात पर निदेशक नाराज हो गए और छात्र को थप्पड़ जड़ दिया। इसके बाद गार्डों को बुलाकर छात्रों को कमरे से बाहर निकलवा दिया। इससे नाराज छात्रों ने परिसर में तोडफ़ोड़ किया। घटना में छात्रा कविता के चेहरे, प्रशांत और आशीष के हाथों में चोट आई है। एक छात्र को लोकबंधु अस्पताल में भेजा गया। दूसरे छात्र ने अस्पताल जाने से इनकार कर दिया। प्रॉक्टर प्रो. रामचंद्रा ने बताया कि मामले की जांच की जा रही है। उग्र छात्रों पर भी कार्रवाई होगी। 

Posted By: Anurag Gupta

अब खबरों के साथ पायें जॉब अलर्ट, जोक्स, शायरी, रेडियो और अन्य सर्विस, डाउनलोड करें जागरण एप