रायबरेली, जागरण संवाददाता। बहुजन समाज पार्टी के राष्ट्रीय महासचिव सतीश चंद्र मिश्र रायबरेली में भाजपा पर हमलावर। उन्‍होंने अपने भाषण में केंद्र और प्रदेश सरकार पर निशाना साधा। कहा कि राम मंदिर के चंदे से भाजपा खुद को मजबूत कर रही है। उसे जुटाए गए चंदे का हिसाब देना चाहिए।

राज्यसभा सदस्य मिश्र बुधवार को सिविल लाइंस चौराहा स्थित एक मैरिज हाल में आयोजित विचार संगोष्ठी में बतौर मुख्य अतिथि शामिल थे। उन्होंने कहा कि 2017 में भाजपा का शासन में आते ही ब्राह्मण और दलित समाज को चिन्हित कर लिया गया था। सबसे पहले ब्राह्मणों पर हमले शुरू हुए। रायबरेली के अप्टा कांड में पांच गरीब ब्राह्मणों की हत्या से इसकी शुरुआत हुई। तत्कालीन सरकार के मंत्री ने मरने वालों को ही माफिया घोषित कर दिया। बिकरू कांड में अज्ञात हमलावरों के नाम पर चुनचुनकर ब्राह्मणों की हत्याएं हुईं। लखनऊ और झांसी समेत अन्य कई शहरों की घटनाओं को लेकर बसपा नेता ने सरकार को घेरा।

यह कार्यक्रम तीन बजे शुरू होना था, लेकिन करीब दो घंटे विलंब से शुरू हुआ। करीब पांच बजे पहुंचे मिश्र का सबसे पहले पदाधिकारियों व कार्यकर्ताओं ने स्वागत किया। करीब आधे घंटे के संबोधन में उन्होंने सिर्फ ब्राह्मण और दलित समाज की बात की। पूर्व मंत्री नकुल दुबे, मुख्य सेक्टर प्रभारी राकेश गौतम, ब्राह्मण समाज के मंडल संयोजक नागेश्वर द्विवेदी, जिलाध्यक्ष बाल कुमार गौतम आदि मौजूद रहे।

2022 में भाजपा को उखाड़ फेंकेगा ब्राह्मण समाज: मीडिया से बातचीत के दौरान सतीश चंद्र मिश्र ने कहा कि ब्राह्मण समाज बहुजन समाज पार्टी के साथ खड़ा हो रहा है। यह देख दूसरे दलों में खलबली मची है। 2022 के चुनाव में भाजपा को उखाड़ फेंकने में इसी समाज का सबसे बड़ा योगदान रहेगा। इसी के सहयोग से बसपा की सरकार बनेगी।

Edited By: Rafiya Naz