लखनऊ, जेएनएन। पेशेवर रक्तदाताओं पर रोक लगाने के लिए अब नई व्यवस्था बनाई जा रही है। अभी ब्लडबैंक में दर्ज किए जा रहे ब्योरे को अपर्याप्त मानते हुए खाद्य सुरक्षा एवं औषधि प्रशासन विभाग ने केंद्रीय स्वास्थ्य मंत्रालय और औषधि नियंत्रक को पत्र भेजा है। नई व्यवस्था के तहत रक्तदाता का फोटो पहचान पत्र और आधार कार्ड अनिवार्य करने सुझाव प्रमुखता से दिया है।

औषधि व कॉस्मेटिस्क अधिनियम के तहत पेशेवर रक्तदाताओं पर प्रतिबंध है। हाल ही में अपर मुख्य सचिव खाद्य सुरक्षा एवं औषधि प्रशासन डॉ. अनिता भटनागर जैन ने ब्लड बैंक का निरीक्षण किया था। उसमें पाया कि रक्तदाता का जो विवरण रखा जाता है, उसके आधार पर पेशेवर रक्तदाताओं पर प्रतिबंध लगाना व्यावहारिक रूप से संभव नहीं है। यदि रक्तदाता पहचान में गलत नाम-पता देता है तो फिर यह पता नहीं लगाया जा सकता है कि रक्तदाता ने कितने समय पहले रक्तदान किया था।

अपर मुख्य सचिव ने पत्र में लिखा है कि रक्तदाता और जिस व्यक्ति को रक्त दिया जाना है, दोनों के स्वास्थ्य के लिहाज से जरूरी है कि रक्तदान करने वाले व्यक्ति की पहचान के लिए आधार नंबर या अन्य कोई फोटो आइडी को आवश्यक विवरण में शामिल किया जाए। सुझाव दिया है कि वास्तव में पेशेवर रक्तदाताओं पर प्रतिबंध तभी लग सकता है, जब दूरगामी व्यवस्था के रूप में ब्लड डोनर रिकॉर्ड को केंद्रीयकृत ऑनलाइन बायोमैट्रिक सिस्टम के रूप में विकसित किया जाए।

Posted By: Umesh Tiwari

अब खबरों के साथ पायें जॉब अलर्ट, जोक्स, शायरी, रेडियो और अन्य सर्विस, डाउनलोड करें जागरण एप