मोदी सरकार - 2.0 के 100 दिन

लखनऊ (जेएनएन)। भाजपा ने 2019 में होने वाले चुनाव के लिए अपनी रणनीति बदली है। 2014 के लोकसभा और 2017 के विधानसभा में भाजपा विपक्ष पर आक्रामक होकर परिवर्तन की लहर चलाने में लगी रही लेकिन, अब चुनाव प्रबंधन के लिए सरोकारों पर जोर है। विपक्ष पर हमलावर होने के साथ पार्टी आम जनता के बीच अपनी उपलब्धियों का आंकड़ा ले जाएगी। इसके लिए एक बड़ी टीम तैयार कर ली गई है।

चुनावी तैयारी के लिए भाजपा ने पहली बार सुनियोजित तरीके से संगठन को विस्तार दिया है। भाजपा संगठन और उसके फ्रंटल इकाइयों में अनुभवी कार्यकर्ताओं को कमान सौंपी गई है। प्रदेश अध्यक्ष डॉ. महेंद्र नाथ पांडेय की अगुवाई में पहली बार प्रकोष्ठ, प्रकल्प और विभागों का गठन हुआ है। इसमें क्षेत्रीय, जातीय संतुलन के साथ ही अनुभव पर जोर दिया गया है। सोशल मीडिया के जरिये सभी राजनीतिक दल चुनावी अभियान में जुटे हैं।

भाजपा ने मनीष दीक्षित को मीडिया प्रभारी बनाकर प्रवक्ता और पैनलिस्टों की एक बड़ी टीम पहले ही तैयार की थी। अब मीडिया संपर्क विभाग की संरचना कर विद्यार्थी परिषद की पृष्ठभूमि से आये तरुणकांत त्रिपाठी को अगुआई दी गई है। तरुण को पहले भी मीडिया संपर्क का अनुभव रहा और उनकी टीम में पूर्वी उप्र के गाजीपुर से जुड़े नवीन श्रीवास्तव समेत चार लोगों को शामिल कर निगरानी, प्रचार और संपर्क का दस्ता तैयार किया है।

इस टीम को बल देने में आइटी, चुनाव प्रबंधन और राजनीतिक प्रतिपुष्टि प्रतिक्रिया जैसे विभाग भी अहम कड़ी होंगे। अन्य विभागों की भी एक दूसरे से कड़ी जोडऩे के साथ ही जिम्मेदारी और समन्वय का खाका तैयार किया गया है। प्रदेश महामंत्री संगठन सुनील बंसल ने इसकी रूपरेखा तैयार करते समय संवाद, निष्कर्ष और क्रियान्वयन का भी फार्मूला तैयार किया है। इसका असर लोकसभा चुनाव प्रचार के दौरान दिखेगा। प्रकोष्ठों के गठन में भी ऐसी ही तत्परता दिखाई गई है।

पंचायत प्रकोष्ठ में गोरखपुर के रमेश सिंह को संयोजक और सहकारिता प्रकोष्ठ में आरपी कुशवाहा को संयोजक और पैकफेड निदेशक मार्कंडेय राय समेत कई कार्यकर्ताओं को सह संयोजक बनाकर इन दोनों संगठनों से गांवों की सरकार तक संपर्क बनाने की योजना है। इन संगठनों से किसानों का साधने का एजेंडा है। खास बात यह कि पूर्व सैनिक, वरिष्ठ नागरिक, उद्यमी, एनजीओ, बुनकर और शिक्षकों को भी साधने के लिए सैनिक लगाए गए हैं। भाजपा ने अपने संकल्पों को पूरा करने और उसकी उपलब्धियों के लिए प्रकल्प बनाकर तैयारी शुरू कर दी है। भाजपा चुनाव प्रबंधन से पहले इन सरोकारों के जरिये चुनावी अभियान को मजबूती देगी।  

Posted By: Ashish Mishra

अब खबरों के साथ पायें जॉब अलर्ट, जोक्स, शायरी, रेडियो और अन्य सर्विस, डाउनलोड करें जागरण एप