लखनऊ (जेएनएन)। भारतीय जनता पार्टी मिशन 2019 के तहत लगातार महागठबंधन की काट का हथियार खोजने में लगी है। समाजवादी पार्टी के वरिष्ठ नेता शिवपाल सिंह यादव के रूप में उनको बड़ा हथियार मिल सकता है। प्रदेश की योगी आदित्यनाथ सरकार ने हाल में ही उनके दामाद को उपकृत किया है।

लोकसभा चुनाव 2019 के लिए विपक्षी दलों के महागठबंधन की काट में भारतीय जनता पार्टी की निगाह अब शिवपाल सिंह यादव पर टिक गई है। समाजवादी पार्टी में हाशिये पर चल रहे शिवपाल ने शनिवार को विद्रोही तेवर दिखाकर यह संकेत दे दिए हैं कि वह भाजपा के लिए मददगार साबित हो सकते हैैं। भाजपा फिलहाल उन्हें पार्टी में तो शामिल करती नहीं दिख रही है लेकिन, शिवपाल के अलग दल बनाने के बयान में भाजपा को अपना फायदा जरूर नजर आ रहा है।

समाजवादी पार्टी की कमान पूरी तरह अखिलेश यादव के हाथों में जाने के बाद से ही शिवपाल सिंह यादव अब खुद को उपेक्षित महसूस कर रहे हैैं। अखिलेश यादव के साथ सार्वजनिक समारोहों में एक-दो बार वह दिखे जरूर लेकिन, दोनों में तल्खी भी दिखी। अब खुद शिवपाल ने भी मान लिया है कि समाजवादी पार्टी में उनके लिए कोई बड़ा स्थान नहीं रह गया है। उन्होंने कल कानपुर में बागी तेवर अपनाते हुए स्पष्ट तौर पर घोषणा तक कर दी कि समाजवादी पार्टी में अब महत्वपूर्ण पद न मिलने पर वह दूसरा रास्ता अख्तियार कर लेंगे। इसे नई पार्टी के गठन की संभावना से जोड़कर देखा जा रहा है।

शिवपाल सिंह यादव ने भले ही अब यह घोषणा की है लेकिन, माना जा रहा है कि अखिलेश यादव की बेरुखी और बीते उपचुनाव में समाजवादी पार्टी के साथ बहुजन समाज पार्टी की बढ़ती नजदीकियों के बाद से ही उन्होंने अपने लिए अलग रास्ता तलाशना शुरू कर दिया था। इस बीच सपा-बसपा के संभावित गठबंधन की काट तलाशने में जुटी भाजपा को शिवपाल सिंह यादव के रुख में अपना फायदा दिखाई दे रहा है। यही कारण माना जा रहा है कि पिछले दिनों जब शिवपाल, मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ से मिले और अपने आइएएस दामाद अजय यादव की प्रतिनियुक्ति यूपी में बढ़ाने का आग्रह किया तो सरकार ने तेजी दिखाते हुए महज तीन दिन के भीतर ही इसका प्रस्ताव केंद्र को भेज दिया।

दरअसल, भाजपा को इसका पक्का अहसास है कि समाजवादी पार्टी को बड़ा नुकसान पहुंचाने में शिवपाल सिंह यादव उसके लिए तुरुप का इक्का साबित हो सकते हैैं। वह कद्दावर नेता रहे हैं और उनके पीछे समर्थकों की बड़ी संख्या है जो अब समाजवादी पार्टी में उपेक्षित हैं। इसी कारण भाजपा की निगाह शिवपाल पर टिकी हुई है।

अमर सिंह भी बनेंगे मोहरा

शिवपाल के करीबी माने जाने वाले सपा से राज्यसभा सदस्य अमर सिंह भी भाजपा का मोहरा साबित हो सकते हैैं। अमर इस समय खुलकर अखिलेश यादव और आजम खां के खिलाफ बोल रहे हैैं और प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी की नीतियों का समर्थन कर रहे हैं। पिछले माह लखनऊ के इंदिरा गांधी प्रतिष्ठान में आयोजित एक सरकारी कार्यक्रम में अमर सिंह शामिल हुए थे। तब प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने अपने संबोधन में उनका नाम भी लिया था।

पार्टी में राष्ट्रीय स्तर की जिम्मेदारी न मिली तो खोजेंगे दूसरा रास्ता

कन्नौज में समाजवादी पार्टी के नेता व पूर्व मंत्री शिवपाल सिंह यादव ने फिर बागी तेवर दिखाते हुए कहा कि पार्टी में राष्ट्रीय स्तर की जिम्मेदार नहीं दी गई तो दूसरा रास्ता अपनाएंगे। बड़ी बात नहीं कि वह दूसरी पार्टी का भी दामन थाम लें। उन्होंने प्रदेश के मुखिया योगी आदित्यनाथ की तारीफ भी की। आगरा-लखनऊ एक्सप्रेस-वे से शिवपाल सिंह यादव का काफिला इटावा जा रहा था, लेकिन फगुहा में एक्सप्रेस-वे से नीचे उतरकर तिर्वा पहुंच गया। यहां प्लाजा मार्केट स्थित भूमि विकास बैंक में पहुंचकर उन्होंने प्रेसवार्ता की।

उन्होंने कहा कि सपा में आधा जीवन गुजर गया, अब पार्टी में राष्ट्रीय स्तर की जिम्मेदारी नहीं मिली तो बगावत भी कर सकते हैं। शिवपाल बोले, ठठिया से निकलने वाली साइकिल यात्रा में वह नजर नहीं आएंगे क्योंकि न तो इसकी जानकारी मिली और किसी ने बुलाया भी नहीं है। इसके बाद योगी आदित्यनाथ की तारीफ करते हुए कहा कि मुख्यमंत्री तो ईमानदार हैं लेकिन पार्टी के लोग भ्रष्टाचार फैला रहे हैं। इससे जनता परेशान हो गई है। 

Posted By: Dharmendra Pandey