वाराणसी (जेएनएन)। जज्बा, जोश और जुनून। इनके आगे हर मुश्किल बौनी हो जाती है। इन तीन शब्दों की जीवंत प्रतीक हैं रानी लक्ष्मीबाई वीरता पुरस्कार विजेता सुमेधा पाठक। रीढ़ की हड्डी में संक्रमण के चलते दिव्यांगता की शिकार बीएचयू की यह छात्रा बुधवार रात आठ बजे वीडियो जारी करके केंद्रीय मंत्री स्मृति ईरानी एवं बीएचयू की चीफ प्राक्टर प्रो. रॉयना सिंह को फिट इंडिया के तहत फिटनेस चैलेंज देगी। वीडियो से वह देश के करीब 2.5 करोड़ दिव्यांगों को भी फिट रहने की प्रेरणा देगी।

मानस नगर निवासी दवा व्यवसायी बृजेश चंद्र पाठक की बेटी सुमेधा 2013 में 10वीं की परीक्षा दे रही थी। रीढ़ की हड्डी में संक्रमण होने से वह तीन पेपर ही दे पाई। बावजूद इसके वह 8.6 सीजीपीए अंकों से पास हुई। रीढ़ की बीमारी के कारण उसकी एक साल तक पढ़ाई बाधित रही। इस दौरान उसके इलाज के लिए परिवारीजन ने हरसंभव जतन किया।

दाखिले में भी आई थी अड़चन

सुमेधा के पिता ने बताया कि इलाज के बाद भी सीने के नीचे पूरा अंग दिव्यांगता का शिकार हो गया। इस कारण स्कूल में प्रवेश भी नहीं लिया जा रहा था। बाद में एक स्कूल में दाखिला हुआ। सीबीएसई 12वीं में उसके करीब 92 फीसद अंक आए। 2016 में सुमेधा ने दिव्यांगता की श्रेणी पर ऑल इंडिया टॉप किया। इसके बाद उसका दाखिला बीएचयू में हुआ। मंगलवार को उसके कामर्स द्वितीय वर्ष के चतुर्थ सेमेस्टर की परीक्षा समाप्त हुई।

फिट रहने के लिए व्यायाम जरूरी

सुमेधा का मानना है कि फिट रहने के लिए सभी को व्यायाम करना चाहिए। दिव्यांग हैं तो भी सही सलामत अंग दुरुस्त रखने के लिए व्यायाम करना चाहिए। खराब हो चुके अंगों को भी ठीक करने का प्रयास करना चाहिए। बताया कि पीएम मोदी द्वारा शुरू किए गए योग दिवस एवं फिट इंडिया कार्यक्रम से वह प्रभावित है। वीडियो से वह दिव्यांगों को फिट रहकर राष्ट्र निर्माण में सहयोग का संदेश देगी।  

Posted By: Ashish Mishra

डाउनलोड करें जागरण एप और न्यूज़ जगत की सभी खबरों के साथ पायें जॉब अलर्ट, जोक्स, शायरी, रेडियो और अन्य सर्विस