अयोध्या, जेएनएन। जून महीने की भीषण गर्मी यानी जब सूर्य आग बरसा रहा होता है तो रामनगरी अयोध्या में आराध्य को शीतलता प्रदान करने के लिए फूल बंगला सजाए जाने की परंपरा है। इसी परंपरा के तहत शुक्रवार को रामलला के साथ ही कनक बिहारी मंदिर के प्रांगण को फूलों से सजाया गया है। अयोध्या में इस मनोहरी क्षण को देखने के लिए बड़ी संख्या में भक्त लोग सुबह से ही मंदिरों में एकत्र हैं। कतार में लगकर यह लोग अपने आराध्य भी पूजा में भी लीन हैं।

प्रदेश के पूर्वी हिस्सों के साथ अयोध्या में भी गुरुवार को बारिश की रिमझिम फुहार भी पड़ी जो सुकोमल शीतल और सुशोभित पुष्पों एवं पुष्प लडिय़ों से सज्जित फूल बंगला में आराध्य को स्थापित करने की भावना के अनुरूप ही साबित हुई। श्रीराम जन्मभूमि पर विराजे रामलला के लिए तो यह दुर्लभ अवसर था।

अयोध्या में लंबे विवाद और कोर्ट की तमाम बंदिशों से मुक्त राम लला की पूजा अर्चना में उनके अनुरूप गौरव गरिमा प्रदान करने की नवंबर 2019 में सुप्रीम फैसला आने के बाद से निरंतर कोशिश हो रही है। कनक भवन में भगवान श्रीराम के साथ मां सीता के युगल विग्रह को फूल बंगला में स्थापित किया गया। इसके साथ ही मंझे गायकों ने भक्ति और भाव से भरे गीत प्रस्तुत कर आराध्य को रिझाने का प्रयास भी किया। 

शॉर्ट मे जानें सभी बड़ी खबरें और पायें ई-पेपर,ऑडियो न्यूज़,और अन्य सर्विस, डाउनलोड जागरण ऐप