लखनऊ, जेएनएन। रथयात्रा निकालकर राममंदिर आंदोलन को राष्ट्रव्यापी उभार देने वाले पूर्व उप प्रधानमंत्री लालकृष्ण आडवाणी और पूर्व भाजपा अध्यक्ष मुरली मनोहर जोशी राम मंदिर के भूमिपूजन कार्यक्रम में वर्चुअली शामिल रहेंगे। राममंदिर निर्माण का मौका सनातनी सद्भाव का भी संगम बनेगा। सिर्फ हिंदू ही नहीं, बल्कि अन्य संप्रदायों और पंथों के धर्माचार्य व विशिष्टजन भी इस कार्यक्रम का हिस्सा बनेंगे। श्रीरामजन्मभूमि तीर्थ क्षेत्र ट्रस्ट के महासचिव चंपतराय के एलान के मद्देनजर, अब तक जिन हस्तियों को आमंत्रित किए जाने की चर्चा है, उससे सनातनी सद्भाव के संगम का अक्स उभरना तय माना जा रहा है। भूमिपूजन कार्यक्रम में श्रीरामजन्मभूमि तीर्थ क्षेत्र ट्रस्ट ने पूर्व उप प्रधानमंत्री लालकृष्ण आडवाणी और भाजपा अध्यक्ष रहे मुरली मनोहर जोशी को आमंत्रित किया है, लेकिन उम्र और स्वास्थ्यगत कारणों से वे कार्यक्रम में शामिल नहीं होंगे। उनके वीडियो कांफ्रेसिंग के जरिए शिरकत करने की योजना है।

प्रभु राम की मर्यादा के अनुरूप उनकी जन्मभूमि पर मंदिर निर्माण के लिए होने जा रहे भूमिपूजन को ऐतिहासिक बनाने के लिए हर संभव काेशिश की जा रही है। इस कड़ी में समारोह में हिंदू धर्म से जुड़े सभी संप्रदायों का प्रतिनिधित्व सुनिश्चित कराने की योजना बनाई गई है। इसमें रामानंदी एवं रामानुज संप्रदाय से जुड़े संत तो शामिल होंगे ही, जैन, बौद्ध,सिख, शाक्त, कबीर, आयर्ग्‍ समाजी, रविदास, वनवासी, गिरिवासी, रामनामी संतों की भी भागीदारी सुनिश्चित होगी।

कार्यक्रम में सर संघचालक मोहन भागवत, सर कार्यवाह भैयाजी जोशी, दत्तात्रेय होसबोले और सह सर कार्यवाह डॉ. कृष्णगोपाल समेत राष्ट्रीय स्वयंसेवक के 11 प्रतिनिधियों को आमंत्रित किया गया है। विश्व हिंदू परिषद के मुखिया आलोक कुमार, दिनेशचंद्र, विनायक पांडेय, मिलिंद परांडे भी कार्यक्रम का हिस्सा होंगे। पूर्व मुख्यमंत्री कल्याण सिंह को निमंत्रण मिल चुका है। वह चार अगस्त को ही अयोध्या पहुंच जाएंगे।

प्रमुख धर्माचार्यों में वासुदेवानंद सरस्वती, जितेंद्रानंद गिरि, नरेंद्र गिरि, केरल की अमृतानंदमयी मां, स्वामी रामभद्राचार्य, स्वामी अवधेशानंद सरस्वती, साध्वी ऋतंभरा, बालभद्राचार्य, अयोध्या के वशिष्ठ भवन के मंहत एवं पूर्व सांसद रामविलासदास वेदांती, महंत नृत्यगोपाल दास के उत्तराधिकारी महंत कमल नयनदास, हनुमानगढ़ी के संत राजूदास की भागीदारी तय मानी जा रही है। इसके अलावा जिन हस्तियों को आमंत्रित किए जाने की चर्चा है, उनमें उमा भारती, महावीर मंदिर सेवा ट्रस्ट के किशोर कुणाल, प्रसिद्ध योगगुरु बाबा रामदेव, विद्वान रामचंद्र पांडेय शामिल बताए गए हैं। मुस्लिम पक्षकार रहे हाजी महबूब एवं इकबाल अंसारी एवं लावारिश लाशों का अंतिम संस्कार करने वाले पद्मश्री मुहम्मद शरीफ को भी आमंत्रित किए जाने की चर्चा है। इसके अलावा गृहमंत्री अमित शाह एवं रक्षामंत्री राजनाथ सिंह के आने का कार्यक्रम अभी तक तय नहीं हो सका है।

हुतात्मा कारसेवकों के परिवारजनों की भागीदारी सुनिश्चित कराने की कवायद

भूमि पूजन कार्यक्रम में मंदिर आंदाेलन में अपने प्राणों का उत्सर्ग करने वाले कारसेवकों के परिवार की भागीदारी भी रहेगी। इसके लिए उनके परिवार के एक-एक सदस्य को आमंत्रित किए जाने की योजना है। इसमें चर्चित हुतात्मा कोठारी बंधु की बहन पूर्णिमा कोठारी शामिल हैं।

Posted By: Dharmendra Pandey

डाउनलोड करें जागरण एप और न्यूज़ जगत की सभी खबरों के साथ पायें जॉब अलर्ट, जोक्स, शायरी, रेडियो और अन्य सर्विस