लखनऊ, जेएनएन। मऊ में सोमवार सुबह गैर सिलेंडर में धमाके के बाद दो मंजिला मकान जर्मीदोज होने से 12 लोगों की मौत हो गई है। कई लोग अभी भी मलवा में दबे में हैं।

मऊ में इस हादसे की सूचना का सीएम योगी आदित्यनाथ ने भी संज्ञान लिया। उन्होंने सभी घायलों को बेहतर का बेहतर से बेहतर इलाज करने का निर्देश देने के साथ मामले की जांच का भी निर्देश दिया है। आजमगढ़ से एटीएस की एक टीम मऊ रवाना कर दी गई है। एटीएस की टीम विस्फोट की हर तरीके से जांच करेगी।

एटीएस यह भी पता लगाने की कोशिश करेगी कि विस्फोट सिलेंडर के फटने से हुआ या फिर इसकी कोई और वजह थी। इस बीच गोरखपुर से एसडीआरएफ की एक टीम भी मऊ के लिए रवाना की गई है। एसडीआरएफ के डॉग स्क्वाड को लखनऊ से रवाना किया गया है।

मोहम्दाबाद कोतवाली क्षेत्र के आज सुबह करीब साढ़े सात बजे वलीदपुर गांव में रसोई गैस का सिलेंडर फटने से दो मंजिला मकान ध्वस्त हो गया। इस हादसे में अब तक 12 लोगों की मौत हो चुकी है। जबकि दर्जन भर घायल लोगों का इलाज जिला अस्पताल में चल रहा है।

सिलेंडर में लीकेज का बाद आग लग गई। पड़ोस के लोग घर में घुसकर आग बुझाने का प्रयास करने लगे। इसी बीच सिलेंडर में धमाका हो गया। दो मंजिला मकान ताश के पत्तों की तरह गिर गया। जिसके नीचे बढ़ी मकान के मलबे में कई लोग दब गए।

इस हादसे पर डीजीपी ओपी सिंह ने कहा कि दुर्घटना दुखद और गंभीर है। अभी तक मिली जानकारी के मुताबिक पांच-छह लोगों के मरने की पुष्टि हुई है। मौके पर एसपी और डीएम पहुंचे हैं। हमारी प्राथमिकता मलबे में दबे जीवित लोगों को बचाने की है। हमने एनडीआरएफ की टीम से भी संपर्क किया है। जल्द ही स्थिति को काबू में कर लिया जाएगा। 

यह भी पढ़ें : मऊ जिले में घर में धमाके के बाद मकान मलबे में तब्‍दील, हादसे में 13 की मौत, कई गंभीर रूप से घायल

Posted By: Dharmendra Pandey

डाउनलोड करें जागरण एप और न्यूज़ जगत की सभी खबरों के साथ पायें जॉब अलर्ट, जोक्स, शायरी, रेडियो और अन्य सर्विस